नई दिल्ली, एएनआइ। भारत के बैंकों के साढ़े 13 हजार करोड़ रुपये लूट कर फरार वाले मेहुल चोकसी पर आज फैसला आएगा। इस बीच मेहुल चोकसी के भाई चेतन चोकसी से मुलाकात पर डोमिनिका के विपक्षी नेता ने सफाई दी है। डोमिनिका के विपक्ष के नेता लेनोक्स लिंटन ने चेतन चोकसी से मुलाकात की बात से इनकार कर दिया है। लिंटन ने कहा कि मुझे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कभी भी कोई पैसा नहीं मिला है।विपक्ष के नेता लेनोक्स लिंटन ने चेतन चोकसी से मुलाकात की बात से इनकार करते हुए कहा- 'हम मेहुल चोकसी और उसके सहयोगी और यहां तक ​​कि उसके परिवार के सदस्यों से भी नहीं मिले हैं। हम उन्हें नहीं जानते। उनके लिए चुनाव प्रचार या किसी अन्य चीज के लिए हमें कोई धन उपलब्ध कराने की कोई व्यवस्था नहीं है। यह बिल्कुल झूठ है।' 

उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि यह प्रकाशन इस क्षेत्र की कुछ सरकारों के पासपोर्ट बेचने वाले मित्रों से जुड़ा होना चाहिए। मुझे किसी से एहसान के बदले में या उन चीजों के परिणामस्वरूप कोई पैसा नहीं मिला है जो मैंने किया है या नहीं किया है या करने या न करने का वादा किया है। उन्होंने आगे कहा कि मैं चेतन चोकसी (मेहुल का भाई) को नहीं जानता, मैंने उसे कभी नहीं देखा। मैंने चेतन चोकसी से या उसके साथ कभी बात नहीं की, मुझे लगता है कि 'समथिंग टाइम्स' नामक प्रकाशन से एक ऑनलाइन कहानी आ रही है, मैंने इस वेबसाइट को कभी नहीं देखा है।

डोमिनिका स्थित एक समाचार आउटलेट- एसोसिएट टाइम्स ने मंगलवार को रिपोर्ट प्रकाशित की है, जिसमें कहा गया है कि भारत के भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के बड़े भाई चेतन चीनू भाई चोकसी ने डोमिनिका के नेता प्रतिपक्ष लेनोक्स लिंटन से मुलाकात की थी और इन दोनों के बीच यह समझौता हुआ था कि टोकन धन और चुनावी चंदे के वादे के बदले विपक्षी नेता संसद में चोकसी के मामले को उठाएंगे। समाचार आउटलेट ने दावा किया कि चेतन 29 मई को एक निजी जेट से डोमिनिका आया था और अगले दिन मैरीगोट में लिंटन से मिला था।

क्या मेहुल चोकसी को भारत लाया जा सकेगा। भारतीय समयानुसार आज शाम 6.30 बजे डोमिनिका की अदालत में इसे लेकर सुनवाई होनी है। इसमें उसके प्रत्यर्पण को लेकर कोई फैसला आ सकता है। भारत आज कोर्ट में चोकसी को लेकर कई सबूत पेश करेगा।

इसे भी पढ़ें- भगोड़े मेहुल चोकसी केस में आज डोमिनिका कोर्ट में सुनवाई, प्रत्यर्पण पर होगा फैसला; भारत पेश करेगा सबूत

 

Edited By: Shashank Pandey