नई दिल्ली। पेट्रोलियम मंत्रालय में हुई जासूसी और दस्तावेजों लीक मामले में शनिवार को कांग्रेस ने मोदी सरकार पर सीधा हमला बोला है। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि इस तरह की हरकत दो बार सामने आई हैं और दोनों ही बार केंद्र में भाजपा की सरकार थी। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीसी चाको ने कहा कि इससे पहले 1999 में इस तरह की बात सामने आई थी जब मंत्रालय की जासूसी हुई। उस वक्त केंद्र में भाजपा की सरकार थी। इसके बाद अब जबकि केंद्र में दोबारा भाजपा की सरकार है तब फिर इस तरह की ही बातें सामने आई हैं।

आप की मांग, रिलायंस को काली सूची में डाला जाए

चाको ने कहा कि इन तथ्यों को झुठलाया नहीं जा सकता है। बावजूद इसके भाजपा इसका आरोप कांग्रेस पर मढ़ने से कतरा नहीं रही है। दस्तावेज लीक मामले में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि पेट्रोलियम मंत्री का इस बाबत दिया गया बयान बेहद भ्रामक है जिसमें उन्होंने इसका आरोप यूपीए पर लगाया है। पेट्रोलियम मंत्रालय में जासूसी के इस मामले के सामने आने के बाद जहां कांग्रेस को एक मुद्दा मिल गया है वहीं यह भाजपा के लिए कमजोर कड़ी साबित हो रहा है। इस मामले में अब तक कई लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने कई आरोपियों को कल आैर आज कोर्ट में पेश भी किया है।

कांग्रेस के ही अभिषेक मनु सिंघवी ने इस मामले को बेहद गंभीर बताते हुए कहा कि इस पर सिर्फ कार्रवाई हाे रही है इतना कह देने भर से ही सरकार को छोड़ा नहीं जा सकता है। पत्रकारों द्वारा मोदी की अरुणाचल यात्रा पर दिए गए चीन के बयान पर उनका कहना था कि अरुणाचल प्रदेश भारत का हिस्सा है। इस बारे में चीन की किसी भी राय को भारत स्वीकार नहीं करेगा।

पढ़ें: मंत्रालय जासूसी कांड: आरोपियों की कस्टडी मांगेगी दिल्ली पुलिस

Posted By: Kamal Verma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस