नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। Fastag Toll Plaza: अगले सप्ताह से सभी टोल बूथों पर गाड़ियों को फास्टैग से ही गुजरना होगा। एनएचएआइ ने इसके लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली है। अब तक 8 हजार से अधिक फास्टैग कार्ड बनाए जा चुके हैं। जब से टोल बूथों पर फास्टैग की अनिवार्यता की गई है उसके बाद से सभी वाहन चालक इसको बनवाने के लिए लगे हुए हैं। एनएचएआइ ने टोल बूथों पर लगने वाली भीड़ को कम करने के लिए ही ये फास्टैग सिस्टम निकाला है।

इसके तहत जो वाहन चालक टोल बूथ से गुजर रहा होगा उसको यहां पर रुककर कैश में भुगतान नहीं करना होगा, बल्कि इसी फास्टैग से उसके खाते से पैसे कट जाएंगे। सभी फास्टैग कार्ड वाहन चालक के कार्ड से कनेक्ट होंगे, जैसे ही वाहन चालक टोल बूथ से गुजरेगा, टोल बूथ पर लगी हाइ फ्रीक्वेंसी की मशीन उस फास्टैग को पढ़ लेगी और खाते से पैसे निकल जाएंगे, इससे टोल बूथ पर लगने वाले जाम से राहत मिलेगी और वाहन चालकों को यहां पर रूककर समय भी खराब नहीं करना होगा।

दो कार्ड लेकर चलेंगे तो दोनों से कट जाएगा पैसा 

एनएचएआइ ने डीजीएम मुदित गर्ग का कहना है कि कुछ दिनों से इस तरह की शिकायतें मिल रही है कि गाड़ी घर पर खड़ी थी और टोल बूथ से फास्टैग से पैसे कट गए। उन्होंने बताया कि कुछ लोग एक कार्ड को गाड़ी के शीशे पर लगाकर चल रहे हैं और कुछ लोग उसे जेब में रखकर चल रहे हैं। यदि किसी व्यक्ति के पास दो फास्टैग है, एक गाड़ी के शीशे पर लगा है और दूसरा उसकी जेब में है तो टोल बूथ पर लगी मशीन दोनों कार्डों से पैसे काट लेगी। टोल बूथ पर लगी मशीनें हाइ फ्रीक्वेंसी वाली है वो आपके जेब में रखे फास्टैग को भी रीड कर लेगी और उसी हिसाब से आपके खाते से पैसे कट जाएंगे।

किसी दूसरे को फास्टैग कार्ड न देने की सलाह 

उनका कहना है कि यदि आपके पास फास्टैग है तो उसे आप किसी दूसरे वाहन चालक को ना दें। यदि आपके दिए गए फास्टैग कार्ड को किसी वजह से वो वाहन स्वामी टोल बूथ से लेकर निकल जाता है तो उससे पैसे कट जाएंगे, चाहे आपने वहां से अपनी गाड़ी निकाली हो या नहीं। टोल बूथ पर हाइ फ्रीक्वेंसी वाली मशीनों को लगाया गया है जो आपके जेब में रखे फास्टैग को भी डिटेक्ट कर लेगी और उससे पैसे कट जाएंगे। इस वजह से फास्टैग लेने वाले वाहन चालक इस बात का ध्यान रखें कि वो अपने फास्टैग को वाहन की फ्रंट विंडो पर ही लगाएं, उसके जेब में न रखें और किसी दूसरे को भी न दें।

15 दिसंबर से हो जाएगा शुरू 

सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ने सभी चार चक्का वाहनों के लिए सभी टोल प्लाजा पर टोल की अदायगी केवल मात्र 'फास्टैग' के माध्यम से ही अनिवार्य कर दी है। पहले इसकी अनिवार्यता शुरू होने की तिथि एक दिसंबर 2019 थी जो अब बढ़ा कर 15 दिसंबर 2019 कर दी गई है। जब से फास्टैग की बात शुरू हुई है उसके बाद से वाहन मालिक फास्टैग हासिल करने के लिए तमाम संस्थानों से संपर्क कर रहे हैं। दरअसल पहले टोल प्लाजा पर वाहन मालिक आ कर रुकते थे व नकद रुपये दे कर टोल का भुगतान करने के बाद ही आगे बढ़ते थे। उसमें वाहन वालों का अतिरिक्त समय व ईधन तो खर्च होता ही था ऊपर से जाम की समस्या भी उत्पन्न हो जाती थी।  

Posted By: Vinay Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस