नई दिल्ली, एनएनआइ। दिल्ली उच्च न्यायालय ने देश भर के सभी रेलवे स्टेशनों पर सुरक्षा उपायों के मानकों को बनाए रखने की मांग वाली याचिका पर केंद्र से जवाब मांगा है। 

रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर छह लाख ठगे

उत्तराखंड के एक युवक से रेलवे ग्रुप डी में नौकरी दिलाने का झांसा देकर छह लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है। आरोपितों ने युवक को फर्जी नियुक्ति़ पत्र देने के साथ-साथ बिहार के हाजीपुर रेलवे स्टेशन पर तीन महीने की ट्रेनिंग भी दिलाई। ट्रेनिंग के बाद युवक जब उत्तराखंड पहुंचे तो उन्हें संदेह हुआ। पीड़ित अखिलेश बोरा जब दिल्ली आए और नियुक्ति पत्र के बारे में जानकारी हासिल की, तब उन्हें ठगी का अहसास हुआ। युवक ने बिंदापुर थाने में मामला दर्ज कराया है।

अखिलेश परिवार के साथ उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में रहते हैं। उनके पिता सेना में तैनात हैं। अखिलेश के पिता बिशन सिंह के एक जानकार गणोश ने कहा कि उसकी दिल्ली में रहने वाले संजय नामक युवक से जान-पहचान है और वह रेलवे में नौकरी लगवाता है। उसने यहां तक कहा कि मेरे बेटे की भी उसने नौकरी लगवाई है। इसमें साढ़े चार लाख रुपये खर्च होंगे। अखिलेश के पिता इसके लिए तैयार हो गए। इसके बाद बिशन सिंह ने संजय को साढ़े चार लाख रुपये दे दिए। पैसे लेने के बाद संजय ने अखिलेश को ट्रेनिंग के लिए हाजीपुर आने को कहा। वहां संजय ने अमित नामक शख्स से उनकी मुलाकात करवाई और कहा कि यही ट्रेनिंग देंगे।

इसके बाद अखिलेश को एक आइडी कार्ड भी दिया गया। तीन माह तक अखिलेश व दो अन्य युवक संदीप और भुवन को हाजीपुर रेलवे स्टेशन पर ट्रेनिंग दी गई। अखिलेश को अमित ने ट्रांसफर लेटर दे दिया और कहा कि वह उसका प्रमोशन भी कराएगा। इसके एवज में डेढ़ लाख रुपये लगेंगे। अखिलेश ने अमित को पैसे दे दिए। इसके बाद उन्हें प्रमोशन लेटर भी दे दिया गया। जब लेटर लेकर अखिलेश पिथौरागढ़ पहुंचे तो घरवालों को शक हुआ।

Posted By: Pooja Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस