नई दिल्ली, जेएनएन। जम्मू के सुंजवां आर्मी कैंप में हुए आतंकी हमले को लेकर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की। रक्षा मंत्री ने साफ कहा कि हमले के पीछे जैश ए मोहम्मद और आतंकी मसूद अजहर का हाथ है। इस हमले में जैश के तीन आतंकी मारे गए हैं। उन्होंने बताया कि चौथा आतंकी हाइड हो सकता है। रक्षा मंत्री ने कहा कि जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी और हम पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब देंगे।

रक्षा मंत्री ने कहा कि घटना स्थल पर आतंकवादियों के पास से मिले सभी सामान और दस्तावेजों का इकट्ठा कर लिया गया है। इन दस्तावेजों से ये साफ हो गया है कि सभी आतंकी पाकिस्तानी थे और उनका संपर्क जैश से था। रक्षा मंत्री ने कहा कि इन सभी सबूतों को पाकिस्तान के सामने पेश किया जाएगा। इस हमले को लेकर केंद्र और राज्य सरकार गंभीर है। रक्षा मंत्री ने बताया कि सोमवार सुबह साढ़े 10 बजे सेना का ऑपरेशन खत्म हो गया। ऑपरेशन में सभी आतंकी मारे गए हैं। उन्होंने कहा कि सर्च ऑपरेशन अभी भी जारी है।

महबूबा मुफ्ती से मुलाकात

इससे पहले रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के साथ मुलाकात भी की। उन्होंने सोमवार शाम जम्मू के सुंजवां आर्मी कैंप का दौरा किया। उन्होंने आर्मी अस्पताल पहुंचकर आतंकी हमले में घायल हुए लोगों से मुलाकात की और उनका हालचाल जाना। शनिवार को सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने भी कल सुंजवां कैंप का हवाई दौरा किया था।

आतंकी हमले में पांच जवान शहीद

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर के सुंजवां आर्मी कैंप पर शनिवार को आतंकियों ने हमला कर दिया था। इस हमले में पांच जवान शहीद हो गए थे। जबकि गोलीबारी में एक नागरिक की भी मौत हो गई थी। जवाबी कार्रवाई में सेना ने तीन आतंकियों को मार गिराया। रविवार देर रात ब्रिगेड के भीतर पांच बड़े धमाके हुए।

जानकारी के मुताबिक, जैश-ए-मोहम्मद की अफजल गुरू ब्रिगेड ने शनिवार तड़के साढ़े चार बजे सुंजवां ब्रिगेड पर हमला कर दिया था। शनिवार को इसमें दो जवान शहीद हुए थे और तीन आतंकी ढेर हुए थे, जबकि रविवार को तीन और जवान और एक जवान के पिता की भी मौत हो गई। शहीदों की पहचान सूबेदार मदन लाल चौधरी, सूबेदार मोहम्मद अशरफ मीर, हवलदार हबीबउल्ला कुरैशी, नायक मंजूर अहमद, लांस नायक मोहम्मद इकबाल शामिल हैं। वहीं, मुठभेड़ में अभी तक ग्यारह लोग घायल हुए हैं।

Posted By: Manish Negi