नई दिल्ली, प्रेट्र : भारत में नेपाली राजदूत के पद से हटाए गए दीप कुमार उपाध्याय ने भारत-नेपाल संबंधों में आई खटास को एक बुरा सपना करार दिया है। उन्होंने कहा कि दोनों देशों को सुधारने और संभालने के जतन करने चाहिए।

नेपाली प्रधानमंत्री केपी ओली के आरोपों को खारिज करते हुए उपाध्याय ने मंगलवार को कहा कि उनके लगाए आरोप बेबुनियाद हैं। उन्होंने कहा कि यह एक राजनीतिक फैसला है जो अब उनकी नियति बन गई है। विगत रविवार को ही राजदूत के पद से मुक्त हो चुके नेपाली कांग्रेस के वरिष्ठ नेता उपाध्याय ने कहा कि भारत को नेपाल की दिक्कतों और मजबूरियों को समझना चाहिए। उन्होंने ने कहा कि मौजूदा तनाव के लिए वह किसी को दोष नहीं देना चाहते। लेकिन यह भी साफ है कि ताली दो हाथों से ही बजती है।

ये भी पढ़ें- नेपाल ने भारत से बुलाए गए राजदूत उपाध्याय पर लगाए तीन आरोप

विदेश सचिव एस. जयशंकर की ओर से भोज पर आमंत्रित उपाध्याय ने कहा कि रिश्तों की मौजूदा स्थिति को लेकर भारतीय पक्ष में तनाव है। इस भोज के दौरान आपसी विश्वास को बहाल करने पर चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि बीती घटना को बुरा सपना समझकर भूल जाना चाहिए।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप