कोल्लम, प्रेट्र/आइएएनएस। केरल में कान्वेंट के कुएं से एक नन का शव बरामद हुआ है। शव की पहचान सिस्टर सुजन (55) के रूप में हुई है। वह जिले के पठानपुरम स्थित कान्वेंट से जुड़े सेंट स्टीफेंस स्कूल में पढ़ाती थीं। दूसरी तरफ रविवार को भी विभिन्न कैथोलिक समूहों ने जालंधर के दुष्कर्म के आरोपी बिशप फ्रेंको मुलाक्कल के खिलाफ जांच में शिथिलता बरतने का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन जारी रखे।

पुलिस ने बताया कि सुबह लगभग नौ बजे के आसपास माउंट टबोर कान्वेंट के कर्मचारियों ने सबसे पहले कुएं के पास खून के निशान देखे। बाद में उन्होंने कुएं के अंदर शव पड़ा देखा। सूचना पर पुलिस और दमकल विभाग के कर्मचारियों ने कुएं से शव निकाला। पुलिस को नन के कमरे के अंदर भी खून के निशान मिले हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का कहना है कि शव को देखने से लगता है कि सूजन ने खुद ही कलाई को चोट पहुंचाई। स्कूल और कान्वेंट दोनों को कोट्टायम-मुख्यालय मलंकारा सीरियाई आर्थोडाक्स चर्च द्वारा संचालित किया जाता है। कुछ टीवी चैनलों की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि नन पिछले कुछ दिनों से तनाव में थी। हालांकि, पुलिस इस पर कुछ नहीं कह रही है। सुजन पिछले 12 सालों से स्कूल में पढ़ा रही थीं।

पुलिस पर जांच प्रभावित करने का आरोप
पांच ननों ने पुलिस के उच्चाधिकारियोंपर दुष्कर्म के आरोपी बिशप फ्रेंको मुलाक्कल के खिलाफ जांच को प्रभावित करने का आरोप लगाया है। इनका कहना है कि आरोपी को बचाने के लिए जांच को टाला जा रहा है। पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) लोकनाथ बेहेरा का कहना है कि जांच पूरी करने के लिए एर्नाकुलम रेंज के आइजी विजय सकारे को कहा गया है। उन्होंने क्राइम ब्रांच से जांच कराने की बात से इन्कार किया है। 

नन पर विधायक की टिप्पणी से महिला आयोग नाराज
दुष्कर्म पीडि़ता नन के खिलाफ केरल के विधायक की आपत्तिजनक टिप्पणी पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने कड़ी नाराजगी जताई है। आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने बताया कि वे इस संबंध में विधायक के खिलाफ उचित कार्रवाई के लिए राज्य के डीजीपी को लिखेंगी। आयोग के अध्यक्ष की यह प्रतिक्रिया केरल के विधायक पीसी जार्ज के उस बयान के बाद आई है, जिसमें उन्होंने कहा था कि आखिर उन्होंने इस मामले की शिकायत पहले क्यों नहीं की थी? जुलाई में नन ने जालंधर के बिशप फ्रेंको मुलाक्कल के खिलाफ कोट्टायम में शिकायत दर्ज कराई थी।

Posted By: Ravindra Pratap Sing