नई दिल्ली, एजेंसियां। महाराष्ट्र में भीषण तबाही मचाने के बाद चक्रवात निसर्ग कमजोर होने लगा है। मौसम विभाग के अनुसार यह धीरे-धीरे और कमजोर होगा। समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार निसर्ग अब उत्तर-पूर्व महाराष्ट्र की ओर बढ़ रहा है। अब नासिक, धुले और नंदुरबार जिलों पर असर पड़ने की संभावना है। मौसम विभाग (IMD) के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने जानकारी देते हुए कहा कि निसर्ग के जमीन से टकराने के दौरान हवा की गति 120 किलोमीटर प्रतिघंटा रही। 

महापात्र के अनुसार यह तूफान पुणे के ऊपर केंद्रित है। तूफान कमजोर होकर तूफानी चक्रवात (Cyclonic Storm) में तब्दील हो गया है। हवा की गति 65 से 75 किलोमीटर प्रतिघंटा हो गई है। छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर आवागमन शुरू हो गया है। निसर्ग ने गुजरात के दक्षिणी तट पर कोई बड़ा नुकसान नहीं पहुंचाया। समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार गुजरात सरकार ने आठ जिलों के तटीय क्षेत्रों के 63,700 से अधिक लोगों सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया था। राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की 18 टीमों और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की छह टीमों को बचाव कार्य के लिए तैनात किया गया था।

Cyclone Nisarga Updates:

पुणे: फायर ब्रिगेड ने अब तक 69 कॉल के जवाब दिए

पुणे नगर निगम के फायर ब्रिगेड विभाग ने पेड़ उखड़ने से संबंधित 60 कॉल और आज शाम तक जलभराव से संबंधित 9 कॉल का जवाब दिया है। 

रायगढ़: 58 वर्षीय व्यक्ति की मौत

महाराष्ट्र के रायगढ़ के अलीबाग इलाके में आज बिजली का पोल गिरने से एक 58 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई। समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसारर जिला कलेक्टर निधि चौधरी ने इसकी जानकारी दी है।

घटना से प्रभावित लोगों की मदद करें एनसीपी कार्यकर्ता- शरद पवार

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से चक्रवात के कारण तबाही के कारण लोगों की मदद करने का आग्रह किया। समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार पवार ने एक बयान में कहा कि चक्रवात ने सार्वजनिक और निजी संपत्तियों को गंभीर नुकसान पहुंचाया है और एनसीपी कार्यकर्ताओं से कहा है कि वे इस घटना से प्रभावित लोगों की मदद करें।

गुजरात में तूफान के ज़्यादा प्रभाव की उम्मीद नहीं

गुजरात मौसम विभाग के निदेशक जयंत सरकार ने कहा कि गुजरात में निसर्ग चक्रवाती तूफान के ज़्यादा प्रभाव की उम्मीद नहीं है। आज के दिन ही प्रमुख प्रभाव रहेगा, वो भी महाराष्ट्र और उससे सटे हुए दक्षिणी गुजरात के ज़िलों तक सीमित रहेगा।

एनडीआरएफ की करीब 43 टीमें तैनात

एनडीआरएफ के महानिदेशक एसएन प्रधान के अनुसार दोनों राज्यों में एनडीआरएफ की करीब 43 टीमें तैनात की गई हैं। चक्रवात के रास्ते से करीब 1 लाख लोगों को सु​रक्षित बाहर निकाला गया है। हम एक साथ दो खतरों से निपट रहे हैं, महाराष्ट्र खासतौर पर कोरोना वायरस (COVID-19) का हॉटस्पॉट है।

भारतीय तटरक्षक दल ने महाराष्ट्र में आठ टीमें भेजी

भारतीय तटरक्षक दल (पश्चिम) ने चक्रवात निसर्ग के कारण किसी भी मानवीय सहायता और आपदा राहत प्रदान करने के लिए बुधवार को महाराष्ट्र में आठ टीमें भेजी हैं। समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार तटीय गार्ड के जनसंपर्क अधिकारी ने कहा कि टीमों को दहानू, मुंबई, मुरुद, जंजीरा और रत्नागिरी के तटीय क्षेत्रों में तैनात किया गया है। इसी तरह टीमें गोवा, कर्नाटक और केरल में स्टैंडबाय पर हैं।

नरीमन प्वाइंट इलाके में पेड़ जड़ से उखड़े 

चक्रवाती तूफान निसर्ग के चलते मुंबई में हो रही तेज बारिश और आंधी के बीच नरीमन प्वाइंट इलाके में पेड़ जड़ से उखड़ गए। महाराष्ट्र में चक्रवात के कारण कई जगहों पर भारी नुकसान की खबरें सामने आ रही हैं। छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर कोई शाम 7 बजे तक कोई टेक-ऑफ या लैंडिंग नहीं होगी।

तेज हवा और ज्वार से रत्नागिरी प्रभावित

तेज हवा और ज्वार से रत्नागिरी प्रभावित हो गया है। समाचार एजेंसी एएनआइ ने इसका एक वीडियो जारी किया है।  

मुंबई से 200 किलोमीटर की दूरी पर

इससे पहले विभाग ने जानकारी दी थी कि निसर्ग तूफान मुंबई से 200 किलोमीटर की दूरी पर है। पणजी शहर के कुछ हिस्सों में तेज हवा के साथ बारिश शुरू हो गई है। मौसम विभाग ने गोवा के लिए अधिकांश इलाकों में आज हल्की से मध्यम बारिश की भविष्यवाणी की है।

गोवा बीच पर ज्वार ने दस्तक दी

चक्रवात निसर्ग के मद्देनजर गोवा में मिरामार बीच पर तेज हवाओं और ज्वार ने दस्तक दे दी है। समाचार एजेंसी एएनआइ ने इसका वीडियो जारी किया है।

पिछले 6 घंटों के दौरान 13 किमी प्रति घंटे की गति के साथ आगे बढ़ा

मौसम विभाग की ताजा भविष्यवाणी के मुताबिक निसर्ग पिछले 6 घंटों के दौरान 13 किमी प्रति घंटे की गति के साथ उत्तरी महाराष्ट्र तट की ओर बढ़ा। यह अलीबाग से 155 किमी दक्षिण-दक्षिण पश्चिम और मुंबई से 200 किमी दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में केंद्रित है। 

दमन में  एनडीआरएफ की टीम ने राहत और बचाव कार्य शुरू किया

समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार दमन में चक्रवात 'निसर्ग' के मद्देनजर लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का काम जारी है। एनडीआरएफ की टीम ने राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया है।

मध्य प्रदेश और कर्नाटक में बारिश का अनुमान

समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार मौसम विभाग के अनुसार अगले कुछ घंटों मध्य प्रदेश के कुछ इलाकों में बारिश के आसार हैं। विभाग के अनुसार तटीय कर्नाटक और मराठावाड़ा में भी बारिश के अनुमान हैं। इसके अलावा अगले 24 घंटों में मुंबई समेत महाराष्ट्र के कुछ इलाकों में भारी बारिश के आसार हैं। 

मुंबई और महानगरीय क्षेत्रों में बारिश

लैंडफॉल से पहले महाराष्ट्र के मुंबई और महानगरीय क्षेत्रों में मंगलवार शाम से बारिश शुरू हो गई। समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार यह रात में और तेज हो गई। 

महाराष्ट्र और गुजरात में आपदा प्रतिक्रिया तंत्र सक्रिय

महाराष्ट्र और गुजरात ने अपने आपदा प्रतिक्रिया तंत्र को सक्रिय कर दिया है। दोनों राज्यों में एनडीआरएफ की टीमें  तैनात हैं  और प्रभावित होने वाले संभावित इलाकों से लोगों को बाहर निकाला जा रहा है। बता दें कि दोनों पश्चिमी राज्य, पहले से ही कोरोना महामारी से जूझ रहे हैं, जिसने उनके स्वास्थ्य व्यवस्था को गंभीर तनाव में डाल दिया है।

लोगों की सुरक्षा की चाक चौबंद व्यवस्था

महाराष्ट्र समेत गुजरात, केंद्र शासित प्रदेश दमन व दीयू और दादर नगर हवेली में लोगों की सुरक्षा की चाक चौबंद व्यवस्था की गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को महाराष्ट्र, गुजरात, दमन दीव, दादरा और नगर हवेली को सभी सहायता का आश्वासन दिया। 

भारी वर्षा होने की संभावना

समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार मौसम विभाग ने महाराष्ट्र के पालघर, पुणे, ठाणे, मुंबई, रायगढ़, धुले, नंदुरबार और नासिक में भारी वर्षा होने की संभावना है। विभाग ने मछुआरों को अगले 48 घंटों के दौरान दक्षिण-पूर्व अरब सागर, लक्षद्वीप क्षेत्र और केरल तट के आस-पास नहीं जाने की सलाह दी है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस