नई दिल्ली, एजेंसी। Bulbul Cyclone Live Update: भीषण चक्रवाती तूफान 'बुलबुल' ने भारत और बांग्लादेश के तटीय इलाकों में जमकर तबाही मचाई है। अधिकारियों के मुताबिक तेज हवाओं और मूसलाधार बारिश की वजह से दोनों देशों में मरने वालों का आंकड़ा बढकर 24 पहुंच गया है। तूफान शनिवार रात 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बांग्लादेश के तट से टकराया।

तबाही का आकलन करने के लिए सोमवार सुबह बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हवाई सर्वेक्षण किया। मुख्यमंत्री ने दक्षिण 24 परगना जिले के नामखाना, बकखाली व अन्य इलाकों में बुलबुल की विनाशलीला का मुआयना किया और इसके बाद वे काकद्वीप में प्रशासनिक अधिकारियों के साथ एक बैठक की। 

जानकारी के मुताबिक तूफान की चपेट में आने से बांग्लादेश में 12 लोगों की मौत हुई है, जिसमें से 11 लोगों की मौत पेड़ गिरने की वजह से हुई है। वहीं भारत के पश्चिम बंगाल और ओडिशा में भी 12 लोगों की मौत हुई है। तूफान को देखते हुए भारत में लगभग 1 लाख से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया था। अब तूफान के कमजोर होने की वजह से लोग अपने घर लौट रहे हैं। ओडिशा में तटीय फसलों को भी बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचा है।

2 लाख हेक्टेयर फसलों को नुकसान

जिला प्रशासक मसूद आलम सिद्दीकी ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि बांग्लादेश के दक्षिणी द्वीप भोला के पास एक मछली पकड़ने वाले ट्रॉलर के डूबने से पांच अन्य लोग फिलहाल लापता हैं। उन्होंने बताया की तूफान ने मिट्टी, टिन और बांस के लगभग 10 हजार घरों को नुकसान पहुंचाया है। इसके साथ ही 2 लाख हेक्टेयर फसलों को भी नुकसान पहुंचा है।

600 घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त

वहीं, मंत्रालय के सचिव शाह कमाल ने कहा कि तूफान ने हमारे तटीय इलाकों पर धावा बोला है। ज्यादातर लोग घर ढह जाने या पेड़ गिरने के कारण मारे गए हैं। तूफान से 600 घर आंशिक या पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। अधिकारियों ने आंतरिक नदियों और तटीय जल में नौकाओं को ले जाने पर अस्थायी प्रतिबंध लगा दिया है। तटीय हवाई अड्डों पर करीब 24 घंटों के लिए यातायात बंद कर दिया गया है।

Posted By: Manish Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस