नई दिल्ली, एएनआइ। जम्मू-कश्मीर और नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में तैनात केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की इकाइयों के प्रशिक्षित डॉग को अत्याधुनिक कैमरों से लैस किया जाएगा। शुरुआत में सीआरपीएफ इसके लिए 25 'पुलिस डॉग कैमरे' खरीदेगी। एक दस्तावेज से यह जानकारी मिली है।

कैमरे का प्रयोग करनी पहली एजेंसी होगी सीआरपीएफ 

पिछले कुछ महीनों से सीआरपीएफ इस तरह के कैमरों को लेकर छानबीन कर रही है। उसके संचालन के तौर तरीकों के बारे में भी केंद्रीय बल जानकारी हासिल कर रहा है। अधिकारियों का दावा है कि अपनी के9 इकाई के लिए कैमरे खरीदने वाला सीआरपीएफ देश का पहला बल होगा। ये कैमरे हाई रिसोलुशन के तो होंगे ही वाटर-प्रूफ और स्क्रैच-प्रूफ भी नहीं पड़ेंगे।

डॉग (कुत्तों) में लगाए जाने वाले कैमरों को 'पुलिस डॉग कैमरा' के नाम से जाना जाता है। सीआरपीएफ की इकाइयों के डॉग के पिछले हिस्से में कैमरे लगाए जाएंगे। इससे यह भी पता चलता रहेगा कि किस समय डॉग क्या देख रहा है। डॉग स्क्वायड में तैनात कर्मचारियों को भी विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा।

बता दें कि अमेरिका समेत दुनिया के अन्य कई देशों में भी के9 इकाइयां हैं, जो बहुत ही बेहतरी से काम करती हैं। कई देशों में डॉग के गले में कैमरे लगाए जाते हैं तो कई देशों में उनके पिछले हिस्से में। इनके जरिए अपराधियों की गतिविधियों को रिकॉर्ड किया जाता है, जिससे आखिरकार अपराध पर काबू पाने में मदद मिलती है।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस