नीलू रंजन, नई दिल्ली। दो साल से अधिक समय तक चले कोरोना से होने वाली मौतों का सिलसिला मंगलवार को थम गया। केंद्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय की वेबसाइट के अनुसार, मंगलवार को किसी भी राज्य से कोरोना से मौत की सूचना नहीं मिली। केरल ने 31 मौतों की सूचना दी है, लेकिन ये पुराने मामले हैं, जिन्हें समायोजित किया गया है। इसे कोरोना महामारी के अंत के रूप में देखा जा रहा है। गौरतलब है कि भारत में कोरोना का पहला केस 30 जनवरी 2020 को दर्ज किया गया था।

13 मार्च 2020 को हुई थी कोरोना से पहली मौत

पहली मौत 13 मार्च 2020 को हुई थी। इसके बाद कोरोना संक्रमण से होने वाली मौतों का सिलसिला नहीं रुका। इस दौरान कोरोना से कुल 5,24,490 लोगों की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसे बड़ी उपलब्धि बताते हुए कहा कि आने वाले दिनों में एक-दो मौतें ही दिख सकती हैं, लेकिन फिलहाल इसके ज्यादा बढ़ने की उम्मीद नहीं है। पिछले डेढ़ महीने में कोरोना संक्रमण के मामले जरूर बढ़े, लेकिन अब लगातार गिरावट देखी जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार स्थिति पर पूरी तरह से नजर रखे हुए है। यदि कोई नया खतरनाक वैरिएंट नहीं आया तो जल्द ही कोरोना महामारी का अंत हो जाएगा।

नए मामलों की संख्या दो हजार से नीचे

मंगलवार को देश में कोरोना संक्रमण के नए मामलों की संख्या दो हजार से नीचे आ गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर सुबह आठ बजे अपडेट किए गए आंकड़ों के मुताबिक, बीते 24 घंटे में 1,675 नए मामले मिले हैं और 31 मौतें हुई हैं। ये मौतें अकेले केरल से ही हैं, जहां पहले हुई मौतों को नए आंकड़ों के साथ मिलाकर जारी किया जा रहा है। सक्रिय मामलों की संख्या 14,841 रह गई है जो कुल मामलों का 0.03 प्रतिशत है।

दैनिक संक्रमण दर 0.41 प्रतिशत और साप्ताहिक संक्रमण दर 0.49 प्रतिशत है। मरीजों के ठीक होने की दर 98.75 प्रतिशत और मृत्युदर 1.22 प्रतिशत पर बरकरार है। कोविन पोर्टल के आंकड़ों के मुताबिक, कोरोना रोधी वैक्सीन की अब तक कुल 192.55 करोड़ डोज लगाई जा चुकी है। इनमें 101 करोड़ पहली, 88.34 करोड़ दूसरी और 3.20 करोड़ सतर्कता डोज शामिल है।

Edited By: Arun Kumar Singh