नई दिल्ली, एएनआइ। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए संसद का आगामी बजट सत्र स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा निर्धारित सख्त कोविड-19 प्रोटोकाल के तहत होगा। संसद में बैठने की व्यवस्था इस तरह की जाएगी ताकि शारीरिक दूरी का पालन किया जा सके। लोकसभा और राज्यसभा के दोनों कक्षों में विजिटर्स गैलरी और सेंट्रल हाल में भी संसद के सदस्यों के बैठने की व्वस्था की जाएगी। दोनों सदनों का समय अलग अलग रहेगा। राज्यसभा सुबह 10:00 बजे से दोपहर 3:00 बजे तक और लोकसभा शाम 4:00 बजे से रात 10:00 बजे तक चलेगी।

बजट सत्र के पहले दिन राष्ट्रपति संयुक्त सत्र में दोनों सदनों को संबोधित करेंगे और एक फरवरी को केंद्रीय बजट पेश किया जाएगा। नियम के अनुसार, विशेष रूप से केंद्रीय बजट की प्रस्तुति के दौरान सदन का एक सदस्य दूसरे सदन में जाकर बैठ नहीं सकता है। संसद सचिवालय के कर्मचारियों सहित संसद परिसर में मौजूद सभी लोगों को हर समय मास्क पहनकर रखने के लिए कहा गया है। संसद परिसर में प्रवेश के लिए टीकाकरण प्रमाण पत्र अनिवार्य होगा और कोविड टेस्ट के लिए विशेष डेस्क स्थापित किए जाएंगे।

संसद में प्रतिबंधित प्रवेश जारी रहेगा क्योंकि विजिटर्स की यात्रा के लिए कोई पास जारी नहीं किया जाएगा। वहीं, एमपी के कर्मचारियों को संसद भवन में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी और केवल मंत्रियों के सीमित कर्मचारियों, विशेष रूप से अधिकारियों को प्रवेश की अनुमति होगी जो प्रश्नकाल के लिए आते हैं।

सदन के सदस्य डिजिटल माध्यम से अपनी उपस्थिति दर्ज करा सकेंगे। संसद परिसर में प्रवेश और निकास के लिए विशिष्ट दरवाजों को चिन्हित किया जाएगा ताकि दरवाजों पर लोगों का जमावड़ा न हो। मीडिया का प्रवेश भी कोविड के मानदंडों को देखते हुए प्रतिबंधित रहेगा। बजट सत्र 31 जनवरी से 11 फरवरी तक चलेगा और बजट सत्र का दूसरा भाग 14 मार्च से 8 अप्रैल तक चलेगा।

Edited By: Neel Rajput