गंगटोक, आइएएनएस: सेना और रक्षा भू-सूचना विज्ञान और अनुसंधान प्रतिष्ठान (डीजीआरई) ने संयुक्त रूप से उत्तरी सिक्किम में भारत में अपनी तरह का पहला हिमस्खलन निगरानी रडार स्थापित किया है। हिमस्खलन के साथ ही इस रडार का उपयोग भूस्खलन का पता लगाने के लिए भी किया जा सकता है।

रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल महेंद्र रावत ने कहा कि रडार का उद्घाटन त्रि शक्ति कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल तरन कुमार आइच ने सिक्किम में 15,000 फीट की ऊंचाई पर सेना की अग्रिम चौकियों में से एक पर किया था। उन्होंने कहा कि यह रडार तीन सेकंड के भीतर हिमस्खलन का पता लगाने की क्षमता रखता है। इससे अत्यधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों में सैनिकों और नागरिकों के साथ-साथ वाहनों को बचाने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि यह रडार लघु सूक्ष्म तरंग की एक श्रृंखला का उपयोग करता है। रडार एक अलार्म सिस्टम से भी जुड़ा होता है जो हिमस्खलन की स्थिति में स्वचालित नियंत्रण और चेतावनी उपायों को सक्षम करता है।

लेफ्टिनेंट कर्नल रावत ने कहा कि हिमस्खलन रडार को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन के विंग डीजीआरई द्वारा चालू किया गया था, जो हिमालयी क्षेत्र में भारतीय सेना द्वारा सामना किए जाने वाले हिमस्खलन के खतरों के पूर्वानुमान और शमन में शामिल है। उन्होंने कहा कि यह रडार लघु सूक्ष्म तरंग दालों की एक श्रृंखला का उपयोग करता है जो लक्ष्य पर बिखरे हुए हैं और तीन सेकंड से भी कम समय में हिमस्खलन का पता लगा सकते हैं। राडार एक अलार्म सिस्टम से भी जुड़ा होता है जो हिमस्खलन की स्थिति में स्वचालित नियंत्रण और चेतावनी उपायों को सक्षम करता है। घटना के चित्र और वीडियो विशेषज्ञों द्वारा भविष्य के विश्लेषण के लिए स्वचालित रूप से रिकॉर्ड किए जाते हैं।                                                                         

Edited By: Amit Singh