नई दिल्ली। अगस्ता वेस्टलैंड हैलिकॉप्टर घोटाला मामले की सुनवाई कर रही इटली की अदालत ने अपने फैसले में माना है कि इस सौदे के दौरान भ्रष्टाचार हुआ और पूर्व वायुसेना एस पी त्यागी इस भ्रष्टाचार में शामिल थे।

मिलान की अदालत ने ने 225 पन्नों के अपने फैसले में कहा कि जांच में ये बात साबित हो गई है कि सौदे के दौरान 10-15 मिलियन डॉलर भारतीय अधिकारियों को दिए गए। अदालत ने अपने लिखित फैसले के 17 पन्नों में ये बताया है कि पूर्व वायुसेना प्रमुख एस पी त्यागी किस तरह इस घोटाले का हिस्सा रहे।

अदालत ने अपने फैसले में कहा है कि त्यागी के परिवार को घूस के पैसे कैश और वायर के जरिए दिए गए। इसमें त्यागी के तीन रिश्तेदार शामिल थे, जिनमें से एक खुद सेना का अधिकारी था।

हालांकि पूर्व वायूसेना प्रमुख को इटली की अदालत में पेशी के लिए नहीं बुलाया गया क्योंकि भारत में प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई त्यागी के खिलाफ भ्रष्टाचार की जांच कर रही हैं।

अगस्ता वेस्टलैंड सौदे में पूर्व वायुसेना प्रमुख का नाम सामने आने के बाद पूर्व रक्षा मंत्री ए के एंटनी ने कहा कि वर्तमान सरकार को सीबीआई जांच में तेजी लानी चाहिए और सच को सामने रखना चाहिए। एंटनी ने ये भी कहा कि उन्होंने इटली की अदालत में केस लड़ा और सारे पैसे वापस ले लिए जो उन्होंने इस डील के लिए दिए थे।

अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक त्यागी ने अपने उपर लगे आरोपों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

आपको बता दें कि एस पी त्यागी साल 2005 से 2007 के बीच वायुसेना प्रमुख थे जिस दौरान वायुसेना भवन में वीवीआईपी चौपर सौदा किया गया था।

पढ़ें- सरकार ने अगस्ता विसलैंड सौदे के लिए दिए 1818 करोड़ रूपये जब्त किए

Edited By: Atul Gupta