नई दिल्ली, प्रेट्र। दवा निर्माता कंपनी जाइडस कैडिला ने बुधवार को बताया कि उसकी कोविड-19 वैक्सीन जाइकोव-डी के पहले चरण का ट्रायल पूरा हो चुका है और वह छह अगस्त से क्लीनिकल ट्रायल का दूसरा चरण शुरू करेगी। देश में दूसरी स्वदेसी कोरोना वैक्सीन के ट्रायल में जुटी ड्रग फार्मा कंपनी जायडस कैडिला(Zydus Cadila) ने बुधवार को घोषणा की थी कि वैक्सीन के पहले चरण का ट्रायल सफल रहा है। कंपनी ने कहा कि कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए उसकी प्लास्मिड डीएनए वैक्सीन- जाइकोव-डी(ZyCoV-D) पहले फेज के ट्रायल में सुरक्षित पाई गई है। बता दें कि पहले चरण के ट्रायल में वैक्सीन की खुराक 15 जुलाई को वालंटियर्स को दी गई थी। 

कंपनी ने बताया कि जाइकोव-डी पहले चरण के क्लीनिकल ट्रायल में सुरक्षित और अच्छी तरह सहन करने योग्य पाई गई। कंपनी के चेयरमैन पंकज आर. पटेल ने कहा कि पहले चरण में वैक्सीन के सुरक्षित होने की प्रामाणिकता काफी अहम है। समाचार एजेंसी रायटर के मुताबिक, कंपनी की योजना वैक्सीन के बाद के चरणों के ट्रायल अगले साल फरवरी या मार्च तक पूरा करने की है।

ल्यूपिन और बीडीआर फार्मा ने लांच कीं फेविपिराविर टेबलेट

दवा कंपनी ल्यूपिन और बीडीआर फार्मा ने बुधवार को अपनी-अपनी फेविपिराविर टेबलेट लांच करने की घोषणा की। ल्यूपिन ने 'कोविहाल्ट' के नाम से लांच इस दवा की कीमत 49 रुपये प्रति टेबलेट रखी है। एक स्टि्रप में 200 मिग्रा की 10 टेबलेट होंगी। वहीं, बीडीआर फार्मा ने फेविपिराविर को 'बीडीएफएवीआइ' नाम से लांच किया है।

कंपनी ने इसकी कीमत 63 रुपये प्रति टेबलेट रखी है। इसकी भी एक स्टि्रप में 200 मिग्रा की 10 टेबलेट होंगी। इससे पहले मंगलवार को सन फार्मा ने 'फ्लूगार्ड' के नाम से इस दवा को लांच किया था जिसकी कीमत कंपनी ने 35 रुपये प्रति टेबलेट रखी है। इस बीच, बायोफोर इंडिया फार्मास्यूटिकल्स की सब्सिडियरी कंपनी जेनरा फार्मा को भी फेविपिराविर के उत्पादन और बिक्री की अनुमति मिल गई है। कंपनी 'फैविजेन' के नाम से इसकी बिक्री करेगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021