नई दिल्‍ली, पीटीआइ। कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के बीच 25 राज्‍यों, केंद्र शासित प्रदेशों ने सार्वजनिक स्‍थानों पर धूम्ररहित तंबाकू उत्पादों और थूकने पर प्रतिबंध लगा दिया है। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने यह जानकारी दी। इन राज्‍यों में महाराष्‍ट्र, गुजरात, उत्‍तर प्रदेश, असम और दिल्‍ली भी शामिल हैं।

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने 1 अप्रैल को सभी राज्यों को कोरोनो वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान रहित तंबाकू के उपयोग और थूकने पर रोक लगाने के लिए कहा था। मंत्रालय ने कहा था, 'धुआं रहित तंबाकू उत्पाद, पान मसाला और सुपारी चबाने से लार का उत्पादन तेज होता है। इसके बाद लोग सार्वजनिक स्थानों पर थूकते हैं, जिससे कोविड-19 वायरस फैल सकता है। इसलिए इन उत्‍पादों पर प्रतिबंध लगा देना चाहिए।'

एक आधिकारिक सूत्र ने कहा, '22 राज्यों और छह केंद्र शासित प्रदेशों ने कोविड-19 महामारी के दौरान धूम्रपान रहित तंबाकू उत्पादों के उपयोग और सार्वजनिक स्थानों पर थूकने पर प्रतिबंध लगा दिया है।' सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कोरोनो वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए केंद्र सरकार द्वारा तंबाकू उत्पादों के उपयोग और सार्वजनिक स्थानों पर थूकने पर प्रतिबंध लगाने के कदम का स्वागत किया है।

स्वैच्छिक स्वास्थ्य संघ की मुख्य कार्यकारी अधिकारी भावना मुखोपाध्याय ने कहा, 'हम भारत सरकार की तंबाकू उत्पादों के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने और सार्वजनिक स्थानों पर थूकने से कोविड-19 वायरस के प्रसार को रोकने और नियंत्रित करने के लिए समयबद्ध कदम उठाने के लिए सराहना करते हैं।' साथ ही मुखोपाध्याय ने कहा, 'स्वास्थ्य की सुरक्षा और गंभीर कोविड-19 लक्षणों के जोखिम को कम करने के लिए, हमारा सभी धूम्रपान करने वालों और तंबाकू उपयोगकर्ताओं से आग्रह हैं कि विशेष रूप से इस महत्वपूर्ण समय पर इसे छोड़ दें।'

प्रोफेसर प्रतिमा मूर्ति, प्रोफेसर और प्रमुख, मनोरोग विभाग, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंसेस ने कहा कि इस बात के प्रमाण बढ़ रहे हैं कि धूम्रपान से कोविड-19 होने का खतरा बढ़ता है। दरअसल, धूम्रपान करने से फेफड़े की कार्यक्षमता बिगड़ती है और इम्युनिटी कम हो जाती है।

गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। देश में जारी लॉकडाउन के दौरान भी संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हालांकि, इस दौरान संक्रमितों के ठीक होने की रफ्तार भी बढ़ी है। भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या 59,662 हो गई है और बीते 24 घंटे में कोरोना के 3320 मामले दर्ज किए गए हैं। वहीं, 95 मरीजों की मौत हुई है। हालांकि, 17847 मरीज इस बीमारी की चपेट से बाहर आ गए हैं। भारत में कोरोनावायरस से अबतक 1,981 मरीजों की मौत हो चुकी है। रिकवरी रेट की बात की जाए तो बीते 24 घंटों का रिकवरी रेट 29.91 फीसदी है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस