नई दिल्ली, पीटीआइ। देश में बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों को देखते हुए जहां सरकार ने देश में लागू लॉकडाउन की अवधी को 3 मई तक के लिए बढ़ा दिया हैं। वहीं, सीओवीआईडी -19 के खिलाफ लड़ाई में योगदान देने की अपनी निरंतर खोज में, रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) ने एक संपर्क रहित सैनिटाइज़र डिस्पेंसर विकसित किया है जो संक्रमण के प्रसार को रोकने में मदद करता है।

डीआरडीओ के अध्यक्ष के प्रौद्योगिकी सलाहकार एस जोशी ने कहा कि डीआरडीओ ने एक संपर्क रहित डिस्पेंसर विकसित किया है और इसे अपने मुख्यालय में तैनात किया है। मशीन किसी भी स्पर्श के बिना सैनिटाइज़र को 20 सेकंड तक फैलाती है और इमारतों में प्रवेश करने वाले लोगों को कीटाणुरहित करने में मदद करती है। इस तरह की मशीनें अन्य एजेंसियों को भी प्रदान की जा सकती हैं।

रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि इकाई संपर्क के बिना काम करती है और एक अल्ट्रासोनिक सेंसर के माध्यम से सक्रिय होती है। कम प्रवाह दर के साथ एक एकल द्रव नोजल का उपयोग हाथ रगड़ने वाले सैनिटिसर को फैलाने के लिए वातित धुंध उत्पन्न करने के लिए किया जाता है। यह न्यूनतम अपव्यय के साथ हाथों को साफ करता है। 

एटमाइज़र का उपयोग करते हुए, केवल 5-6 मिलीलीटर सैनिटाइज़र को एक ऑपरेशन में 12 सेकंड के लिए जारी किया जाता है और यह दोनों हथेलियों पर पूरा शंकु स्प्रे देता है ताकि हाथों की कीटाणुशोधन पूरी हो जाए। जानकारी के लिए बता दें कि देश में लगातार कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी हो रही हैं। देश में फिलहाल कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 13 हजार के पार पहुंच गई हैं। वहीं, केंद्र सरकार ने देश में लागू लॉकडाउन की अवधि को बढ़ाते हुए 3 मई तक लोगों से घरों में रहने की अपील की हैं। बता दें कि फिलहाल कोरोना वायरस के कारण पूरी दुनिया में संक्रमितों की संख्या 28 लाख से ज्यादा हो गई है। 

 

Posted By: Ayushi Tyagi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस