नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। Coronavirus Alert: कोरोना वायरस के साथ ही इसे लेकर अफवाहों और कयासों के दौर ने भी तेजी पकड़ ली है। हालांकि, इनमें से ज्यादातर गलत हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) लगातार लोगों को भ्रम दूर करने के लिए जागरूक कर रहा है। कोरोना वायरस को लेकर एक और दावा किया जा रहा है कि जैसे-जैसे गर्मी बढ़ेगी इसका प्रकोप कम हो जाएगा। WHO ने इसे लेकर बड़ा खुलासा किया है। साथ ही पूरी दुनिया को इससे गंभीरता से लड़ने की सलाह दी है। उधर देश के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से भी गुरुवार को WHO के खुलासे का समर्थन किया गया है।

क्या गर्म मौसम में खत्म हो जाएगा वायरस

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने खुलासा किया है कि अब तक मौजूद परिस्थितियों का आकलन करने से ये दावा सही नहीं लगता है। कोरोना वायरस किसी भी जगह पर फैल सकता है, चाहे वहां का मौसम गर्म हो या उमस भरा। अभी ऐसा न तो कोई अध्ययन है और न ही कोई तथ्य है, जिसके आधार पर ये अनुमान लगाया जा सके कि गर्म मौसम या उमस भरे मौसम में ये वायरस स्वतः खत्म हो जाएगा। मतलब सोशल मीडिया पर किए जा रहे इस तरह के दावों का कोई वैज्ञानिक आधार फिलहाल मौजूद नहीं है।

सभी संभावनाओं का अध्ययन किया जाना है

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने भी गुरुवार को मीडिया से बातचीत में कहा है कि कोरोना वायरस को लेकर अब तक जो भी दावे सामने आ रहे हैं, उनमें से ज्यादातर का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। इन दावों या संभावनाओं का अध्ययन किया जाना अभी बाकी है। इस वायरस को लेकर अभी कोई पुख्ता अध्ययन नहीं है। अभी तक ऐसा माना जा रहा है कि तापमान बढ़ने पर ये वायरस स्वतः खत्म हो जाएगा या इसका प्रकोप बहुत कम हो जाएगा। हालांकि, इसकी कोई वैज्ञानिक पुष्टि नहीं है।

WHO के दावे का आधार क्या है?

गर्म या उमस भरे मौसम में भी कोरोना वायरस के स्वतः खत्म न होने के पीछे WHO का आधार क्या है? इसका जवाब विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कुछ दिन पहले जारी किए गए एक सुझाव में छिपा है। ये सुझाव कोरोना वायरस से बचने के लिए गर्म पानी से नहाने को लेकर दिया गया था। इसमें WHO ने स्पष्ट तौर पर बताया था कि गर्म पानी से नहाकर कोरोना वायरस से नहीं बचा जा सकता है। इसके पीछे कारण बताया गया था कि सामान्य इंसान के शरीर का तापमान 36.5 डिग्री सेल्सियस से 37 डिग्री सेल्सियस तक होता है। जब इतनी गर्मी में वायरस शरीर में फैल सकता है तो गर्म पानी से नहाकर इससे बचने या गर्म मौसम में इसके स्वतः खत्म होने का दावा करना गलत है। उल्टा ज्यादा गर्म पानी से नहाने से त्वचा जल सकती है।

गर्म क्षेत्रों में लोग सावधानी बरतें

गर्म मौसम में वायरस के खत्म होने वाले दावे का फैक्ट चेक करने के साथ ही WHO ने उन लोगों के लिए भी अलर्ट जारी किया है जो गर्म अथवा उमस भरे क्षेत्र में रह रहे हैं या उन क्षेत्रों में यात्रा पर जाने वाले हैं। WHO ने इन लोगों को अन्य क्षेत्र के लोगों की तरह कोरोना वायरस से बचने के लिए जरूरी एहतियात बरतने की अपील की है।

बचाव का सबसे अच्छा तरीका

WHO के मुताबिक, कोरोना वायरस से बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि अपने हाथ को थोड़ी-थोड़ी देर पर साबुन-पानी से कम से कम 20 सेेकेेंड तक धोएं। इसके अलावा हाथों को वायरस मुक्त रखने के लिए एल्कोहल युक्त हैंड सेनेटाइजर का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। जितना संभव हो सके आंख, नाक व मुंह बिना हाथ साफ किए न छुएं। भीड़भाड़ वाली जगह पर जाने से बचें। ऐसे मरीज के संपर्क में आने से बचें, जिसे खांसी या छींक आ रही हो। वायरस को फैलने से रोकने के लिए उन लोगों को मास्क पहनने की सलाह दी जा रही है, जिन्हें खांसी, छींक आ रही हो या बुखार हो या सांस की समस्या हो। WHO के मुताबिक, संक्रमण से बचने के लिए कम से कम एक मीटर की दूरी बनाकर रखना अनिवार्य है।

122 देशों तक पहुंचा कोरोना वायरस

कोविड-19 (Covid-19) वायरस गुरुवार (12-मार्च-2020) की दोपहर तक दुनिया के 122 देशों में उपस्थिति दर्ज करा चुका है। दुनिया भर एक लाख 26 हजार से ज्यादा लोगों में कोरोना वायरस से संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। वहीं 4600 से ज्यादा लोगों की अब तक दुनिया भर में इस खतरनाक वायरस से मौत हो चुकी है। भारत में भी कोरोना वायरस से संक्रमण के 73 मामले अब तक सामने आ चुके हैं। भारत के लिए सबसे बड़ी राहत की बात ये है कि यहां किसी भी मरीज की संक्रमण से मौत नहीं हुई है।

यह भी पढ़ें :-

Coronavirus Update: 36 करोड़ बच्चों की स्कूली शिक्षा प्रभावित, समाधान तलाशने में जुटा यूनेस्को

Coronavirus Alert: क्या चीनी सामान से भी फैल सकता है वायरस, 14 बिंदुओं में जानें हर जवाब

Edited By: Amit Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट