राज्य ब्यूरो, श्रीनगर। अनुच्छेद-370 समाप्ति की पहली वर्षगांठ पर पांच अगस्त बुधवार को आतंकियों और अलगाववादियों के हिंसा भड़काने की आशंका को देखते हुए प्रदेश प्रशासन ने सोमवार देर रात गए कश्मीर संभाग के विभिन्न जिलों में पाबंदियां लागू करते हुए जिला श्रीनगर में कर्फ्यू घोषित कर दिया है। यह कर्फ्यू पांच अगस्त की रात तक जारी रहेगा। कश्मीर में कई संगठनों ने पांच अगस्त को काला दिवस मनाने का भी एलान किया है। गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने पांच अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम लागू किया था। इसके साथ अनुच्छेद-370 और 35ए समाप्त हो गए और जम्मू-कश्मीर राज्य का दो केंद्र शासित राज्यों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के रूप में पुनर्गठन हुआ। 

प्रशासनिक पाबंदियों और श्रीनगर में लगाए गए कर्फ्यू के कारण सामान्य जनजीवन लगभग ठप हाेकर रह गया है।सिर्फ कोविड-19 के संक्रमण से निपटने कीकवायद में जुटे लोगाें और प्रशासनिक अधिकारियों व कर्मियों को ही उनके पास व पहचानपत्र के आधार पर आवाजाही की अनुमति है। बाहर से आने वाले लोगों पर भी काेई रोक नहीं है। अलबत्ता उन्हें संबधित नियमों का पालन करना होगा। किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए प्रशासन ने सभी संवेदनशील इलाकाें में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है।

पांच अगस्त शाम तक कर्फ्यू लगाने का आदेश

केंद्र के फैसले से पाक, अलगाववादियों और जिहादियों के साथ-साथ अलगाववाद की आड़ में मुख्यधारा की सियासत करने वालों का एजेंडा खत्म हो गया। हताश तत्ववादी में हालात बिगाड़ने का हर संभव मौका तलाश रहे हैं। खुफिया एजेंसियों ने भी बीते दिनों अलर्ट जारी कर सचेत किया था कि आतंकी और अलगाववादी संगठन पांच अगस्त पर कश्मीर में बड़े आतंकी हमले को अंजाम दे सकते हैं। जिला मजिस्ट्रेट श्रीनगर डॉ. शाहिद इकबाल चौधरी ने शाम को श्रीनगर व साथ सटे इलाकों में तत्काल प्रभाव से पांच अगस्त शाम तक कर्फ्यू लगाने का आदेश जारी किया है। 

पांच अगस्त को कश्मीर में काला दिवस मनाने जा रहे हैं आतंकी व अलगाववादी

एसएसपी श्रीनगर से मिली सूचनाओं में बताया गया है कि आतंकी व अलगाववादी तत्व पांच अगस्त को कश्मीर में काला दिवस मनाने जा रहे हैं। वह किसी बड़ी आतंकी वारदात को अंजाम देने के साथ हिंसा भड़का कानून व्यवस्था का संकट पैदा कर सकते हैं। जिला मजिस्ट्रेट के मुताबिक, श्रीनगर में पहले से कोविड-19 के मद्देनजर लोगों की आवाजाही और एक जगह पर उनके जमा होने पर रोक है। इसके अलावा पुलिस की रिपोर्ट हिंसा और आम जनहानि से बचने के उपायों को लागू करने के लिए कहती है। इसलिए जिले में क‌र्फ्यू लागू करना जरूरी हो जाता है। स्वास्थ्य संबधी आपात परिस्थितियों में और कोविड-19 की ड्यूटी से संबंधित स्टाफ की आवाजाही पास और वैध कार्ड के आधार पर जारी रहेगी। 

24 घंटे पहले ही तैयारियां शुरू

पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने श्रीनगर में अगले दो दिन के कर्फ्यू पर कहा कि वर्ष 2019 की तुलना में इस साल 24 घंटे पहले ही श्रीनगर में तैयारियां शुरू हो गई हैं। मैं उम्मीद कर रहा हूं कि वादी के अन्य जिलों में भी अगले दो दिनों के लिए आज रात से ही सख्त कर्फ्यू लागू हो जाएगा। 

 

Posted By: Arun Kumar Singh

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस