जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली: कांग्रेस के नए अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे के निर्वाचन पर मुहर लगाने के लिए पार्टी का तीन दिवसीय पूर्ण महाधिवेशन अगले साल फरवरी के दूसरे पखवाड़े में रायपुर में होगा। पार्टी की संचालन समिति की बैठक में रविवार को कांग्रेस का 85वां पूर्ण अधिवेशन बुलाने का सर्वसम्मति से फैसला लिया गया। पार्टी ने यह भी तय किया कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा से मिले सार्थक परिणामों का उपयोग कांग्रेस के संगठनात्मक ढांचे को दुरूस्त करने में किया जाएगा। इसके मद्देनजर ही कांग्रेस ने भारत जोड़ो यात्रा के पूरा होने के बाद पूरे देश में 26 जनवरी से 26 मार्च तक ''हाथ से हाथ जोड़ो'' अभियान चलाने की घोषणा की है। इसमें बूथ से लेकर ब्लॉक और जिला से लेकर राज्य स्तर पर मार्च निकालते हुए भारत जोड़ो यात्रा के मूल संदेशों के साथ मोदी सरकार की विफलताओं को जनता तक पहुंचाया जाएगा। इसके साथ ही कांग्रेसजनों के बीच एकता बनाए रखने पर भी पार्टी विशेष जोर देगी।

यह भी पढ़े: कांग्रेस में जवाबदेही से बचने वाले नेता संगठन से होंगे बाहर, नए चेहरों को मिलेगा मौका; खरगे ने दिया सख्त संदेश

कांग्रेस चलाएगी हाथ से हाथ जोड़ो अभियान

भारत जोड़ो यात्रा पूरी होने के बाद राजनीतिक हलचल नरम न पड़ जाए इसके मद्देनजर तय हुआ कि हाथ से हाथ जोड़ो अभियान के तहत सभी राज्यों की राजधानियों में विशेष रुप से एक महिला मार्च का आयोजन किया जाएगा और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा इन सभी महिला मार्च में शामिल होंगी। कांग्रेस अध्यक्षता मल्लिकार्जुन खरगे की अध्यक्षता में संचालन समिति की पहली बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम, अंबिका सोनी, आनंद शर्मा, मीरा कुमार, जयराम रमेश, केसी वेणुगोपाल आदि से लेकर राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, छत्तीसगढ के सीएम भूपेश बघेल मौजूद थे। 47 सदस्यीय इस संचालन समिति की बैठक में 41 सदस्य शामिल हुए और राहुल गांधी अपनी यात्रा के कारण तो प्रियंका गांधी वाड्रा शहर से बाहर होने के चलते इसमें शरीक नहीं हुए।

रायपुर में होगी पार्टी की समीक्षा बैठक

बैठक के बाद संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल और पार्टी के संचार महासचिव जयराम रमेश ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि रायपुर में होने वाले तीन दिन के सत्र में तमाम विषयों की समीक्षा की जाएगी और अंतिम दिन यहां एक बड़ी रैली भी होगी। कांग्रेस कार्यसमिति का चुनाव महाधिवेशन में कराए जाने के सवाल पर जयराम रमेश ने कहा कि इस बारे में पार्टी संविधान की प्रक्रिया का पालन किया जाएगा। कार्यसमिति के 12 सदस्यों के चुनाव का प्रावधान है और 12 को कांग्रेस अध्यक्ष मनोनीत करते हैं। हालांकि महाधिवेशन में प्रस्ताव पारित कर कांग्रेस अध्यक्ष को चुने जाने वाले सदस्यों के मनोनयन का अधिकार भी देने का प्रावधान है। सोनिया गांधी के पार्टी अध्यक्ष के कार्यकाल में सदैव इसी तरह का प्रस्ताव पारित कर अध्यक्ष को कार्यसमिति के गठन का अधिकार दिया जाता रहा था। वेणुगोपाल ने कहा कि संचालन समिति की बैठक में भारत जोड़ो यात्रा की समीक्षा करते हुए रणनीति तय की गई है जिसके तहत दो महीने तक ''हाथ से हाथ जोड़ो अभियान'' चलाया जाएगा। अभियान के तहत सभी ग्राम पंचायतों और बूथों को कवर करते हुए ब्लॉक व जिला स्तर की पदयात्रा की जाएगी।

जारी रहेगा कांग्रेस का सियासी अभियान

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के 26 जनवरी तक श्रीनगर में पूरा होने का लक्ष्य रखा गया है और इसके बाद दो महीने तक पूरे देश में पार्टी का सियासी अभियान चलता रहेगा। संचालन समिति ने भारत जोड़ो यात्रा के लिए राहुल गांधी की पहल की सराहना करते हुए एक बयान जारी कर कहा कि पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष की ''तपस्या'', अचूक दृढ़ संकल्प और देश के लोगों के लिए प्यार इस यात्रा की सफलता के लिए महत्वपूर्ण रहे हैं। यह भी कहा कि जब भारत चुनौतियों का सामना कर रहा है तब प्रधानमंत्री ध्यान भटकाने और विभाजन करने में लगे हुए हैं। गुजरात और हिमाचल प्रदेश में हाल के चुनाव अभियानों के दौरान पीएम की भड़काऊ बयानबाजी ने राजनीति और समाज में ध्रुवीकरण को और गहरा किया है जिस पर गंभीर चर्चा और बहस की जरूरत है।

यह भी पढ़े: भारत जोड़ो यात्रा के बाद अब नया अभियान शुरू करेगी कांग्रेस, जानें 2023 में क्या है प्रियंका गांधी का प्लान

Edited By: Amit Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट