Move to Jagran APP

कॉलेजियम ने की 10 अतिरिक्त न्यायाधीशों को स्थायी बनाने की सिफारिश, बॉम्बे और दिल्ली हाईकोर्ट में नियुक्ति का प्रस्ताव

Supreme Court Collegium चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूर्ण की अध्यक्षता वाले सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने 10 अतिरिक्त न्यायाधीशों को स्थायी जज बनाने की सिफारिश की है। इनमें से तीन न्यायाधीशों की दिल्ली हाईकोर्ट एवं सात न्यायधीशों को बॉम्बे हाईकोर्ट में नियुक्त करने का प्रस्ताव कॉलेजियम की ओर से दिया गया है। पढ़िए किन-किन न्यायाधीशों के नाम की की गई है सिफारिश।

By Agency Edited By: Sachin Pandey Thu, 11 Jul 2024 12:08 AM (IST)
कॉलेजियम में जस्टिस संजीव खन्ना और जस्टिस बीआर गवई भी शामिल हैं। (File Image)

पीटीआई, नई दिल्ली। प्रधान न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाले सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति के लिए दिल्ली हाईकोर्ट के तीन अतिरिक्त न्यायाधीशों के नामों की सिफारिश केंद्र से की है। कॉलेजियम में जस्टिस संजीव खन्ना और जस्टिस बीआर गवई भी शामिल हैं।

कॉलेजियम ने सिफारिश की है कि बॉम्बे हाईकोर्ट के सात अतिरिक्त न्यायाधीशों को स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया जाए। सिफारिश में यह भी कहा गया कि जस्टिस संजय आनंदराव देशमुख और जस्टिस वृषाली विजय जोशी को सात अक्टूबर, 2024 से एक वर्ष की अवधि के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किए जायें।

इन न्यायधीशों के नामों की हुई सिफारिश

सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर अपलोड किए गए प्रस्तावों में कहा गया है कि जस्टिस गिरीश कठपालिया, जस्टिस मनोज जैन और जस्टिस धर्मेश शर्मा को दिल्ली हाई कोर्ट के स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया जाए।

कॉलेजियम ने जस्टिस संतोष गोविंदराव चपलगांवकर, जस्टिस मिलिंद मनोहर सथाये, जस्टिस नीला केदार गोखले, जस्टिस यांशिवराज खोबरागड़े, जस्टिस महेंद्र वधूमल चांदवानी, जस्टिस अभय सोपानराव वाघवासे और जस्टिस रवींद्र मधुसूदन जोशी को बॉम्बे हाईकोर्ट के स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्त करने की सिफारिश की है।