पणजी, प्रेट्र : गोवा सरकार ने भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरे राज्य के पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआइजी) विमल कुमार गुप्ता को कार्यमुक्त कर दिया है। उन्हें पांच दिसंबर को उनके पद से हटा दिया गया था और गृह मंत्रालय को रिपोर्ट करने का निर्देश दिया गया है।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रीकर ने बुधवार को यहां कहा, 'डीआइजी को पदमुक्त कर दिया गया है। उन पर रिश्वतखोरी के आरोप लगे हैं।' कथित रूप से गुप्ता को रिश्वत की पेशकश करने पर पिछले हफ्ते एक महिला पुलिस सब इंस्पेक्टर और एक कांस्टेबल को निलंबित कर दिया गया था। गुप्ता इनके खिलाफ शिकायतों की जांच कर रहे थे। कांस्टेबल अनुशासनहीनता से जुड़े मामले में विभागीय जांच का सामना कर रहा था। सब इंस्पेक्टर के खिलाफ भी विभागीय जांच बैठाई गई थी। उसने एक अन्य कांस्टेबल के साथ मिलकर साल 2014 में पणजी के पास एक व्यक्ति पर हमला कर उसकी कार छीन ली थी।

पर्रीकर ने बताया कि गुप्ता की ओर से की गई सभी विभागीय जांच की एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा समीक्षा कराई जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि गुप्ता को कार्यमुक्त किया गया है लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि उन्हें क्लीन चिट मिल गई है।

यह भी पढ़ेंः अमेरिका ने यरुशलम को इजरायल की राजधानी माना, भड़का अरब जगत

यह भी पढ़ेंः आधार कार्ड लिंक कराने की समय सीमा 31 मार्च तक बढ़ा सकती है सरकार

By Gunateet Ojha