नई दिल्ली, आइएएनएस। प्रधान न्यायाधीश (सीजेआइ) एसए बोबडे ने बुधवार को कहा कि जजों और वकीलों को गाउन व जैकेट नहीं पहनने के लिए जल्द ही निर्देश जारी किए जाएंगे क्योंकि इनसे वायरस से संक्रमण आसान हो जाता है। वीडियो कांफ्रेंसिंग से एक मामले की सुनवाई के दौरान जस्टिस बोबडे ने वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल के सवाल के जवाब में उक्त टिप्पणी की। पीठ में जस्टिस बोबडे के साथ जस्टिस इंदु मल्होत्रा और जस्टिस ऋषिकेश राय भी शामिल थे।

पीठ उस याचिका पर सुनवाई कर रही थी जिसमें वाट्सएप पेमेंट सर्विसेज पर पूर्ण प्रतिबंध के लिए सरकार को निर्देश देने की मांग की गई है। सुनवाई के दौरान जज सफेद कमीज पर बैंड पहने हुए थे। याचिकाकर्ता की ओर से पेश कपिल सिब्बल ने सवाल किया कि जजों ने गाउन क्यों नहीं पहने हुए हैं। इस पर जस्टिस बोबडे ने उन्हें बताया कि अतिरिक्त कपड़े या गाउन पहनने से कोरोना वायरस संक्रमण में आसानी होती है।

लिहाजा जजों और वकीलों को सुनवाई के दौरान गाउन पहनने से छूट के लिए जल्द ही निर्देश जारी किए जाएंगे। प्रधान न्यायाधीश की ओर से इस टिप्पणी के बाद एक अन्य मामले में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता भी सफेद कमीज पर बैंड लगाए हुए नजर आए। इससे पहले शीर्ष अदालत ने कहा कि अब जज अदालत परिसर में स्थित अदालत कक्षों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये सुनवाई करेंगे। अभी तक जज अपने घरों से भी मामलों की सुनवाई कर रहे थे।

उल्‍लेखनीय है कि देश में कारोना संक्रमण से बीते 24 घंटे में 122 लोगों की मौत जिसके साथ इस बीमारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 2,415 हो गई है। यही नहीं संक्रमण के 3,525 नए मामले सामने के साथ ही संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 74,281 हो गई है। हालांकि संक्रमित हुए 24,385 मरीज ठीक भी हुए हैं और एक रोगी देश से बाहर भी जा चुका है। मौजूदा वक्‍त में कोरोना संक्रमित 47,480 मरीजों का इलाज चल रहा है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस