नई दिल्ली, पीटीआइ। सीबीआइ ने एक कंपनी से जब्त 60 किलोग्राम चांदी को वापस करने के बदले में 19 लाख रुपये की रिश्वत मांगने वाले सीमा शुल्क विभाग (कस्टम) के दो अधिकारियों को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया। कंपनी महाराष्ट्र की है। इस आशय की जानकारी जांच एजेंसी के अधिकरियों ने दी। सीबीआइ के अनुसार, कंपनी के जब्त सामान को छोड़ने के लिए सीमा शुल्क विभाग के सहायक आयुक्त (निवारण) एपी बांडेकर ने 15 लाख रुपये और अधीक्षक (जांच एवं आसूचना) नीरज के. सिंह ने चार लाख रुपये की रिश्वत मांगी। दोनों अधिकारियों को शनिवार तक के लिए हिरासत में लिया गया है।

वहीं, सीबीआइ प्रवक्ता आरसी जोशी ने बताया कि महाराष्ट्र स्थित कोल्हापुर की निजी कंपनी ने 74 किलोग्राम चांदी पांच अक्टूबर 2020 को अहमदाबाद की कंपनी से खरीदी। इसमें से 60 किलोग्राम चांदी गुजरात से महाराष्ट्र भेजी गई। छह अक्टूबर 2020 को मुंबई कस्टम द्वारा इस 60 किलोग्राम चांदी को गैर कानूनी तरीके से जब्त किया गया। कंपनी के मालिक ने सीबीआइ से संपर्क किया और आरोप लगाया कि वह मुंबई स्थित न्यू कस्टम हाउस के अधीक्षक (जांच एवं आसूचना) की पूछताछ में शामिल हो चुका है।

जोशी के अनुसार, कंपनी के मालिक ने आरोप लगाया कि अधीक्षक सिंह ने शिकायत सहायक आयुक्त सीमा शुल्क (निवारण) बांडेकर के कार्यालय को भेज दी और उन्होंने चांदी को मुक्त करने के लिए रिश्वत की मांग की। सूचना मिलने के बाद सीबीआइ ने जाल बिछाया और रिश्वत के हिस्से के रूप में दो लाख रुपये लेने जब सिंह आए तो सीबीआइ की टीम ने उन्हें मौके पर ही पकड़ लिया और बांडेकर को भी बाद में हिरासत में ले लिया गया। उनके कार्यालय एवं आवास की भी तलाशी ली गई जिसमें अपराध में संलिप्तता के संकेत देने वाले दस्तावेज मिले हैं। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021