नई दिल्ली, एएनआइ। केंद्र सरकार ने शुक्रवार को राष्ट्रीय स्वास्थ्य खातों (NHA) में अशुद्धियों (Inaccuracies) और जेब खर्च में कमी का दावा करने वाली खबरों का खंडन करते हुए इसे भ्रामक और गलत बताया। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने इस खबर को भ्रामक बताते हुए कहा, ' राष्ट्रीय स्वास्थ्य खातों (एनएचए) में विशेष रूप से जेब खर्च में कमी के दावे में त्रुटियों का सुझाव देने वाली समाचार रिपोर्ट भ्रामक और गलत है। NHA देश के स्वास्थ्य क्षेत्र में किए गए व्यय पर विस्तृत जानकारी प्रदान करते हैं।

2018-19 में दिखाई गई थी कमी

मंत्रालय ने आगे कहा कि 2018-19 के एनएचए अनुमान में आउट आफ पाकेज खर्ज (OOPE) में कमी दिखाई गई है जो नागरिकों के वित्तीय बोझ को कम करने के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को दिखाता है। इसके डेटा को एक नीजि भारतीय विश्वविद्यालय में काम कर रहे स्वास्थ्य अर्थशास्त्र के एक विशेषज्ञ द्वारा गलत कहना ठीक नहीं है।

एक ही नमूने के डिजाइन का किया गया उपयोग

मंत्रालय ने बताया कि OOPE के लिए सूचना का मुख्य स्रोत 2017-18 के एनएसओ डेटा पर आधारित था जबकि पिछले अनुमान 2014 पर आधारित थे। सरकार ने कहा है कि 71वें और 75वें दौर के दोनों सर्वेक्षण की तुलना सुनिश्चित करने और घरों के चयन के लिए एक ही नमूने के डिजाइन का उपयोग किया गया। मंत्रालय द्वारा दी गई जानकारी में बताया गया है कि साल 2017-18 का डेटा एक साल के सर्वेक्षण पर आधारित था जबकि 2014 का डेटा छह महीने की अवधि का था।

2017-18 का सर्वेक्षण था मजबूत

मंत्रालय ने कहा कि 2017-18 का सर्वेक्षण निश्चित रूप से पिछले सर्वेक्षण की तुलना में अधिक मजबूत था। हालांकि उन्हीं विशेषज्ञों ने 2014 के आंकड़ों को स्पष्ट रूप से स्वीकार किया था और फिर 2017-18 का उनका आकलन वास्तव में मनमाना है। 

यह भी पढ़ें- केंद्र और राज्यों द्वारा स्वास्थ्य पर किए जा रहे खर्च में हुआ इजाफा- वी के पॉल

यह भी पढ़ें-  ठगी मामले में सुकेश चंद्रशेखर के खिलाफ चार्जशीट, डिजिटल उपकरणों का इस्तेमाल कर रचा षड्यंत्र

Edited By: Sonu Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट