नई दिल्ली, प्रेट्र। सीबीएसई मद्रास हाई कोर्ट के उस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने पर विचार कर रही है जिसमें कोर्ट ने कहा था कि तमिल में परीक्षा देने वाले छात्रों को ग्रेस मा‌र्क्स दिए जाएं।

एमबीबीएस-बीडीएस कोर्सेज के लिए सीबीएसई ने नीट का आयोजन छह मई को हुआ था। 136 शहरों में 11 भाषाओं में हुई परीक्षा का परिणाम चार जून को घोषित किया गया था। तमिलनाडु में 1.07 लाख परीक्षार्थी थे। इसके लिए दस शहरों में 170 सेंटर बनाए गए थे।

सीबीएसई ने नियम बनाया है कि क्षेत्रीय भाषा में परीक्षा देने वाले छात्रों को अंग्रेजी की भी टेस्ट बुकलेट मुहैया कराई जाएगी। अगर कोई संदेह होता है तो अंग्रेजी की बुकलेट की इबारत को अंतिम माना जाएगा। हाई कोर्ट की मदुरै बेंच ने 49 गलत सवालों के लिए चार-चार अंक बतौर ग्रेस मार्क देने का आदेश दिया था।

सीबीएसई के एक अधिकारी का कहना है कि फैसले को चुनौती देने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय से सलाह मशविरा किया जा रहा है। हालांकि मंत्रालय का कहना था कि उनके पास अभी तक ऐसा कोई प्रस्ताव सीबीएसई ने नहीं दिया है।

 

Posted By: Arun Kumar Singh