नई दिल्ली, एएनआइ। बंगाल की खाड़ी में आने वाले चक्रवात को लेकर बुधवार को राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन कमिटी (National Crisis Management Committee,NCMC) की बैठक आयोजित की गई। इसमें कैबिनेट सेक्रेटरी राजीव गौबा (Rajiv Gauba) ने केंद्रीय मंत्रालयों की एजेंसियों और राज्य सरकारों द्वारा चक्रवात के कारण उत्पन्न हालात से निपटने के लिए की गई तेयारियों का जायजा लिया। NCMC के चेयरमैन के तौर पर बैठक में शामिल गौबा ने चक्रवाती तूफान के आने से पहले ही सभी बचाव और एहतियातन की गई तैयारियों को लेकर कहा कि संबंधित एजेंसियांं इस बात का पूरा ध्यान रखें ताकि इसके कारण कम से कम जान-माल की क्षति हो।

समुद्र में गए मछुआरों और नौकाओं को तुरंत वापस बुलाने पर जोर देते हुए कैबिनेट सेक्रेटरी ने राज्य सरकारों से इस बात को सुनिश्चित कराने को कहा कि इसके कारण जिन इलाकों में अधिक असर होने की संभावना है वहां से तुरंत लोगों को हटा कर सुरक्षित स्थान पर  ले जाने का इंतजाम किया जाए। उन्होंने राज्य सरकारों को इस बात का आश्वासन दिया कि सभी केंद्रीय एजेंसियां तैयार हैं और सहायता के लिए उपलब्ध रहेंगी।

यह चक्रवाती तूफान आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम, विशाखापत्तनम और विजयनगरम के साथ ही ओडिशा के तटीय इलाकों में बसे जिलों को प्रभावित कर सकता है। आंध्र प्रदेश, ओडिशा, पश्चिम बंगाल और अंडमान व निकोबाद द्वीप समूह के चीफ सेक्रेटरी व वरिष्ठ अधिकारियों ने चक्रवात से बचाव के लिए किए गए उपायों से कमेटी को अवगत कराया। इन राज्यों में NDRF ने अपनी 32 टीमों को तैनात कर दिया है।

बता दें कि बंगाल की खाड़ी के ऊपर पूर्वानुमानित चक्रवात जवाद की भयावहता को देखते हुए ओडिशा के कई जिलों के लिए बारिश और हवा की चेतावनी जारी की गई है। चक्रवात 4 दिसंबर की सुबह तक उत्तर आंध्र प्रदेश-ओडिशा तटों पर स्थल भाग से टकराने की संभावना जताई गई है। चक्रवात के प्रभाव से 3 दिसंबर की शाम/रात से बारिश शुरू हो जाएगी। दो दिसंबर को दक्षिण-पूर्व और इससे सटे पूर्वी मध्य बंगाल की खाड़ी में 50-60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलेंगी।

3 दिसंबर की सुबह से मध्य बंगाल की खाड़ी में 65-75 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 85 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी चलने की संभावना है और धीरे-धीरे 90-100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़कर 110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उत्तर-पश्चिम और इससे सटे पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी में 110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ने की संभावना है। 3 दिसंबर की मध्यरात्रि से उत्तरी आंध्र प्रदेश-ओडिशा तट के साथ-साथ निकटवर्ती जिलों में 45-55 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 65 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने की संभावना है और 4 दिसंबर की दोपहर से धीरे-धीरे 70-80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़कर 90 किमी प्रति घंटे होने की संभावना है।

Edited By: Monika Minal