नई दिल्ली, प्रेट्र। 1,055 करोड़ रुपये के बैंक घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने एक चार्टर्ड एकाउंटेंट और कुछ अन्य की 184.68 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है। जिन लोगों की संपत्ति जब्त की गई है, वे राजस्थान से संबंध रखते हैं। मामला सिंडिकेट बैंक की जयपुर और उदयपुर शाखाओं में सन 2011 से 2016 के बीच घोटाले का है।
जिन लोगों की संपत्ति जब्त की गई है उनमें उदयपुर के चार्टर्ड एकाउंटेंट भरत बंब और अन्य लोग हैं। अन्य लोगों में बैंक मैनेजर संतोष कुमार गुप्ता, देशराज मीणा व उनके परिजन, शंकर लाल खंडेलवाल और हिमांशु वर्मा हैं। इस मामले में ईडी ने 2016 भी संपत्ति जब्ती की कार्रवाई की थी। तब करीब 118 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की गई थी। इस प्रकार से मामले में अभी तक कुल 302.66 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त हो चुकी है। यह जब्ती प्रवेंशन ऑफ मनी लांडरिंग एक्ट के तहत की गई है। जब्त संपत्ति में एक होटल भी शामिल है।
ईडी के अनुसार सीए भरत बंब और बैंक मैनेजर गुप्ता इस घोटाले के मास्टरमाइंड थे। इन पर आपराधिक साजिश रचकर घोटाला करने का मामला मार्च 2016 में सीबीआइ ने दर्ज किया था। इसी के आधार पर ईडी मामले में आगे बढ़ा। घोटाले को फर्जी चेक, फर्जी बिलों और अज्ञात लोगों की जीवन बीमा पॉलिसी के इस्तेमाल से अंजाम दिया गया।

 

By Manish Negi