मुंबई (एएनआई)। मुंबई स्थित जेजे अस्पताल के डॉक्टर को महाराष्ट्र सरकार ने शनिवार को निलंबित कर दिया है। उनपर बायकुला जेल की कैदी मंजुला शेट्टी की हत्या के मामले में गलत सूचना प्रदान करने का आरोप लगा था। हालांकि, जेजे अस्पताल के डीन डॉ टी.पी लहाणे ने बताया, हमें मालूम है कि महाराष्ट्र सरकार ने डॉ विश्वास रोके को निलंबित कर दिया है लेकिन आधिकारिक आदेश के आने तक वे डीन कार्यालय में ही प्रतीक्षा करेंगे।

कल महाराष्ट्र के एक मंत्री रंजीत पाटिल ने विधानसभा में मानसून सत्र के दौरान ये घोषणा की, कि शीना बोरा हत्या के मामले की मुख्य आरोपी इंद्रानी मुखर्जी से मंजुला शेट्टी के हत्या के आरोप में और भी पूछताछ की जाएगी।

इससे पहले शेट्टी की हत्या के आरोपी छह बायकुला महिला जेल अधिकारियों ने मुंबई सत्र अदालत में अपनी जमानत याचिका दायर की है। जमानत याचिकाओं में, उन्होंने मुखर्जी षडयंत्र करने के लिए दोषी ठहराया। याचिका में यह भी कहा गया है कि शेट्टी की मौत का कारण उसकी बीमारी थी। इससे पहले 30 जून को, शेट्टी हत्या के मामले में सीआईडी की जांच की मांग के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई थी। 

बताया जाता है कि, मुखर्जी सहित 200 से अधिक महिला कैदियों को मुंबई के बायकुला जेल के अंदर दंगा और आपराधिक साजिश के आरोप में मुकदमा चलाया गया। नागपाड़ा पुलिस ने छह महिला जेल कर्मचारियों के खिलाफ भी प्राथमिकी भी दायर की जिनपर शेट्टी की हत्या का आरोप है। मालूम हो कि, शेट्टी का निधन 23 जून को बायकुला जेल अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा कथित तौर पर कर दिया गया था।

यह भी पढ़ें : शीना बोरा मर्डर केस में ड्राइवर ने इंद्राणी मुखर्जी को बताया मास्टर माइंड

Posted By: Srishti Verma