नई दिल्ली, आइएएनएस। मुंबई-अहमदाबाद के लिए बुलेट ट्रेन की महत्वाकांक्षी परियोजना के तहत समुद्र के अंदर सुरंग के निर्माण के लिए कम से कम सात भारतीय कंपनियों ने रुचि दिखाई है। राष्ट्रीय उच्च गति रेल निगम समिति (एनएचआरसीएल) के अधिकारी ने बताया, 'सात भारतीय कंपनियों ने मुंबई-अहमदाबाद हाईस्पीड रेल (एमएएचएसआर) कॉरिडोर की 'अंडरसी' सुरंग के निर्माण के लिए लगाई जाने वाली प्रारंभिक बैठक की बोली में भाग लिया था। समुद्र में सुरंग के निर्माण के लिए निविदा मंगाई गई है और 19 फरवरी, 2021 तक बोलियां आमंत्रित की गई हैं।

बुलेट ट्रेन परियोजना में महाराष्ट्र राज्य में बीकेसी से कल्याण शिल्पाता तक 21 किमी लंबा भूमिगत गलियारा होगा। अधिकारी ने कहा कि इस भूमिगत गलियारे का लगभग सात किमी हिस्सा ठाणे के नाले के नीचे है। इसमें से 1.8 किमी लंबे खंड को समुद्र के तल के नीचे विकसित किया जाएगा। जबकि खिंचाव के शेष हिस्से को क्रीक के दोनों ओर मैंग्रोव मार्शलैंड के तहत बनाया जाना है।

अधिकारी ने कहा कि टेंडर सुरंग के विकास के लिए है, जिसमें परीक्षण के साथ-साथ टनल बोरिंग मशीन (टीबीएम) और एक नए ऑस्टि्रयाई टनलिंग विधि का उपयोग कर परियोजना के लिए डबल-लाइन हाई स्पीड रेलवे के लिए कमीशन शामिल है। एनएचएसआरसीएल, राइट्स और जापान की कावासाकी जियोलॉजिकल इंजीनियरिंग फर्म के इंजीनियरों की एक टीम द्वारा पहले अंडरसीट सुरंग क्षेत्र की भू-तकनीकी जांच की गई थी। समुद्र तल की संरचना का अध्ययन करने के लिए, टीम द्वारा एक स्थैतिक अपवर्तन तकनीक (एसआरटी) सर्वेक्षण किया गया, जिसमें पानी की सतह के नीचे से सीबड की ओर एक उच्च ऊर्जा ध्वनि तरंग को निकालने के साथ-साथ क्रम में अपवíतत ध्वनि तरंग का मानचित्रण भी शामिल था। समुद्र के तल के नीचे चट्टान का घनत्व निर्धारित करने के लिए। टीम ने एनएचएसआरसीएल के साथ अंतिम रिपोर्ट भी प्रस्तुत की थी।

पिछले साल, एनएचएसआरसीएल ने 64 प्रतिशत एमएएचएसआर संरेखण के निर्माण के लिए नागरिक अनुबंधों को सम्मानित किया, जिसमें वापी, बिलिमोरा, सूरत, भरूच, आनंद/नडियाद में पांच एचएसआर स्टेशन, सूरत में ट्रेन डिपो और 350 मीटर की एक पर्वत सुरंग शामिल है।

बुलेट ट्रेनों के 350 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने की संभावना है, जो लगभग दो घंटे में 508 किलोमीटर की दूरी तय करती है। मार्ग पर चलने वाली ट्रेनों को सात घंटे और विमानों को लगभग एक घंटे का समय लगता है। 14 सितंबर, 2017 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो एबी ने 1.08 लाख करोड़ रुपये (17 बिलियन डॉलर) की एचएसपी परियोजना की आधारशिला रखी थी।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप