लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश के करीब 25 हजार बीटेक छात्र-छात्राओं के भविष्य से खिलवाड़ करने का मुद्दा विधानसभा में उठाएगी। उल्लेखनीय है कि यूपीटीयू ने प्रदेश 110 इंजीनियरिंग कॉलेजों को प्रतिबंधित कर दिया है।

भाजपा प्रवक्ता के मुताबिक प्रदेश की तकनीकी शिक्षा के लिए जिम्मेदार विश्वविद्यालय की गरिमा तार-तार है। बिना संबद्धता के प्रदेश में 110 इंजीनियरिंग कालेजों का चलना दुर्भाग्यपूर्ण है और बीटेक, एमटेक और एम फार्मा जैसे प्रतिष्ठित कोर्स के साथ खिलवाड़ सरकार की अकर्मण्यता का नतीजा है। भाजपा आरोप लगाया कि प्रदेश की तकनीकी शिक्षा का भविष्य पहले ही खतरे में है। बिना संबद्धता के सैकड़ों इंजीनियरिंग कॉलेज के हजारों छात्रों की डिग्री पर सवालिया निशान लगा है। नौकरी तो दूर अब कंपनियां इन डिग्रियों पर भी भरोसा नही करेंगी। सपा-बसपा की सरकारों की नीतियों के कारण प्रदेश में पहले ही नौकरियों का अकाल है। भाजपा ने जिम्मेदार लोगों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही कराने की मांग करते हुए कहा कि भाजपा छात्रों के साथ अन्याय नहीं होने देगी। सदन में इस समस्या को मजबूती से उठाया जाएगा।

पढ़ें : बी. टेक एडमिशन जांचे कॉलेज के दावे

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस