नई दिल्ली। उधमपुर आतंकी हमले में आज नाटकीय मोड़ आ गया है। बीएसएफ और सीआरपीए में उधमपुर एनकाउंटर का श्रेय लेने की जंग छिड़ गई है। बीएसएफ का दावा है कि उधमपुर हमले में शहीद हुए जवान रॉकी ने आतंकी को मारा था। वहीं, सीआरपीएफ का दावा है कि आतंकी को उनके इंस्पेक्टर ने मारा था। अभी भी दोनों सुरक्षा बलों में तनातनी बनी हुई है। इस बीच बीएसएफ के डीजी डीके पाठक ने प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर बयान दिया है कि उधमपुर हमले में आतंकी को बीएसएफ के शहीद जवान रॉकी ने मारा है।

तो मारे जाते 24 जवान

बीएसएफ डीजी ने कहा कि जिस बस को आतंकियों ने निशाना बनाया था उसमें 24 जवान सवार थे। अगर रॉकी ने आतंकी को निष्प्रभावी नहीं किया होता तो बस में सवार सभी जवान मारे जा सकते थे। उन्होंने कहा कि उधमपुर में पिछले 20 सालों में कोई हमला नहीं हुआ था। पूरे इलाके में कभी कोई खतरा नहीं पैदा हुआ। उन्होंने सुरक्षा एजेंसियों की ओर इशारा करते हुए कहा कि उधमपुर में हुए हमले के बारे में हमें कोई इनपुट नहीं मिला था।

सीआरपीएफ के राग जुदा

सीआरपीएफ की मानें तो बुधवार को सुबह 7 बजे से 7:20 के बीच में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकियों ने फायरिंग की और इसके बाद इंस्पेक्टर सुरेश शर्मा ने जवाबी हमला करते हुए आतंकी को मौत के घाट उतार दिया।

पढ़ेंः शहीद जवान रॉकी और शुभेंदू को दी गई श्रद्धांजलि

पढ़ेंः मैं हिन्दुओं को मारने आया हूं, मुझे ऐसा करने में मजा आता है

Posted By: Gunateet Ojha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस