नई दिल्ली, पीटीआइ। चीन के साथ युद्ध की स्थिति में तिब्बत के पर्वतीय इलाके में राफेल विमान भारत को खास रणनीतिक फायदा पहुंचाएगा। वहां पर यह सतह से हवा में छोड़ी जाने वाली मिसाइलों को चकमा देते हुए दुश्मन के हवाई सुरक्षा व्यवस्था को ध्वस्त कर देगा। यह बात पूर्व वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने विशेष साक्षात्कार में कही है।

पाकिस्तान के बालाकोट में हमले के मुख्य रणनीतिकार धनोआ ने कहा, राफेल लड़ाकू विमान और एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम इस पूरे क्षेत्र में भारत को अहम रणनीतिक बढ़त देंगे। किसी भी देश को भारत से युद्ध छेड़ने से पहले दो बार सोचना पड़ेगा। पाकिस्तान के मामले में तो एस-400 की मिसाइलें पाकिस्तानी विमानों को उसकी सीमा के भीतर ही नष्ट कर देंगी।

उन्हें भारत के भीतर घुसने भी नहीं देंगी। रिटायर्ड एयर चीफ मार्शल ने कहा कि बालाकोट पर हवाई हमले के बाद 27 फरवरी को जिस तरह से पाकिस्तान ने भारत पर हमले की कोशिश की थी, अगर उस समय भारत के पास राफेल होता तो पाकिस्तानी विमान भारत की सीमा में घुस ही नहीं पाते, उससे पहले ही ढेर कर दिए जाते।

पूर्व वायुसेना प्रमुख ने कहा, भारत को मिले राफेल विमान फ्रांसीसी वायुसेना द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे विमानों से ज्यादा उन्नत हैं। क्योंकि इनमें भारतीय वायुसेना ने अपने अनुसार कुछ बदलाव करवाए हैं और नई तरह की मिसाइलों से इन्हें लैस करवाया है। पर्वतीय क्षेत्र की लड़ाई में ये दुश्मन को अचंभित कर देंगे। भारत ने राफेल को फ्रांसीसी कंपनी से खरीदा है।

धनोआ ने कहा कि अत्याधुनिक इलेक्ट्रॉनिक खूबियों से लैस राफेल दुश्मन के हवाई क्षेत्र में अपने मिशन को पूरा करने के लिए प्रवेश करने से पहले उसे भ्रमित कर देगा। राफेल दुश्मन की वायु रक्षा को नष्ट करने तथा जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइलों को निष्प्रभावी बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस