नई दिल्ली, एएनआइ। गणतंत्र दिवस परेड 2020 के मुख्य अतिथि, ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो और पीएम मोदी के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता हुई। इनकी मौजूदगी में दोनों देशों के बीच मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग (एमओयू) पर हस्ताक्षर हुए। इसमें तेल और गैस, खनन और साइबर सुरक्षा जैसे क्षेत्रों में सहयोग को बढ़ावा देने के लिए 15 समझौतें शामिल हैं। इस दौरान विदेश मंत्री एस.जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल मौजूद रहे। बोलसोनारो चार दिन की यात्रा पर शुक्रवार को भारत आए।

इस दौरान बोलसोनारो के भारत आने का निमंत्रण स्वीकार करने के लिए उनको पीएम मोदी ने धन्यवाद कहा। इस दौरान उन्होंने कहा कि कल राजपथ पर गणतंत्र दिवस की परेड में, आप (बोलसोनारो) भारत की विविधता को देखेंगे। ब्राज़ील भी एक ऐसा देश है जो कई त्योहारों को धूम-धाम से मनाता है। इस दौरान बोलसोनारो ने कहा कि हमने अभी 15 समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं। हमने द्विपक्षीय संबंधों पर काम करते हुए अपने (भारत और ब्राजील) संबंधों को और मजबूत किया है।

जयशंकर से मुलाकात

बोलसोनारो आज राष्ट्रपति भवन पहुंचे। यहां उनका औपचारिक स्वागत हुआ। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और पीएम मोदी ने उनका यहां स्वागत किया। बोलसोनारो ने इसके बाद राजघाट पहुंचकर महात्मा गांधी की समाधि पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इस दौरान केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन भी मौजूद रहे। उन्होंने आज विदेशमंत्री एस जयशंकर से मुलाकात की। इस दौरान दोनों देशों के बीच व्यापार और निवेश समेत अन्य क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने में चर्चा हुई।

अक्षरधाम मंदिर का दौरा 

भारत पहुंचने के कुछ घंटे बाद, बोलसनारो ने अधिकारियों के साथ अक्षरधाम मंदिर का दौरा किया। लैटिन अमेरिका का सबसे बड़ा देश ब्राजील के साथ भारत के संबंध पिछले कुछ वर्षों में उथल-पुथल भरे रहे हैं। देश की आबादी 210 मिलियन है और इकोनॉमी 1.8 मिलियन अमरिकी डॉलर की है। 

बोलसनारो की यात्रा काफी महत्वपूर्ण

विदेश मंत्रालय में सचिव (पूर्व) विजय ठाकुर सिंह ने गुरुवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राष्ट्रपति बोलसनारो की यात्रा एक काफी महत्वपूर्ण है। यह हमारी रणनीतिक साझेदारी को फिर से सक्रिय करने और इसे एक केंद्रित तरीके से आगे ले जाने का अवसर होगा। बता दें सेना के एक पूर्व कैप्टन बोलसनारो ने अक्टूबर 2018 में ब्राजील के राष्ट्रपति चुनाव में बड़ी जीत हासिल की और पिछले साल जनवरी में देश की बागडोर संभाली।

यह भी पढ़ें: भारत के साथ होंगी उच्च स्तरीय बैठक, द्विपक्षीय संबंधों मजबूत बनाने पर होगा जोर: ब्राजील राजदूत

यह भी पढ़ें : गोवा और पाकिस्‍तान के मुद्दे पर खराब हुए थे भारत और ब्राजील के संबंध, जानें क्‍या था मामला

Posted By: Tanisk

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस