[अमित तिवारी] स्कूल के दिनों से ही तेज दिमाग एलन मस्क आज किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं। जिप-2 और पेपाल के बाद स्पेस एक्स एलन मस्क द्वारा स्थापित की गई तीसरी कंपनी है। वर्ष 2002 में शुरू हुई यह कंपनी आज अंतरिक्ष के क्षेत्र में कई उल्लेखनीय काम कर चुकी है। हाल ही में स्पेस एक्स ने चार यात्रियों को अंतरिक्ष के सफर पर भी भेजा है। इन सब उपलब्धियों ने 50 साल के एलन मस्क को एक नायक बना दिया है।

एलन मस्क आज कई नए उद्यमियों के लिए प्रेरणास्रोत बने हुए हैं। उनकी कही बातें लोगों के लिए सफलता का आधार बनती हैं। उनके विचार हौसला देते हैं। अलग-अलग मौकों पर एलन मस्क द्वारा कही गई ऐसी ही प्रेरक बातों को संपादित करते हुए महेश दत्त शर्मा ने उन्हें एक सूत्र में पिरोया है। 'एलन मस्क के प्रेरक विचार' शीर्षक से तैयार यह किताब मस्क के जीवन की हल्की-सी झलक दिखाती है और फिर उनकी कही बातों से उनके पूरे व्यक्तित्व को समझने का मौका देती है।

यह पुस्तक वास्तविक जीवन में सफलता की ऊंचाइयां छूने वाले व्यक्ति के जीवन से सफलता के सूत्र सिखाने वाली कुंजी है। जीवन में किसी भी कार्य की नई शुरुआत कर रहे लोगों के लिए यह प्रेरक पुस्तक है। एक सफल व्यक्ति के विचार उसके संघर्ष की उपज होते हैं, जो कई अन्य लोगों की सफलता की सीढ़ी बनते हैं। हालांकि स्वचालित कार या मंगल अभियान के संबंध में समय-समय पर की गई उनकी घोषणाओं को प्रेरक विचारों की श्रेणी में रखना इसे थोड़ा बोझिल बनाता है। कुल मिलाकर, कुछ सीखने और हासिल करने की प्रेरणा के लिए यह अच्छा संकलन है।

पुस्तक : एलन मस्क के प्रेरक विचार

संपादन : महेश दत्त शर्मा

प्रकाशक : प्रभात पेपरबैक्स

मूल्य : 200 रुपये

Edited By: Manish Pandey