नई दिल्ली (जेएनएन)। अभिनेत्री स्वरा भास्कर और विवादों का उतना ही गहरा नाता है, जितना शोले में जय-वीरू का था। या यूं कहें कि इन दिनों बॉलीवुड में विवाद का दूसरा नाम ही स्वरा भास्कर हो गया है। कभी पद्मावत के लिए भंसाली को ओपन लैटर लिखकर नई डिबेट को हवा दे देना, तो कभी 'वीरे दी वेडिंग' के सीन को लेकर ट्रोलर्स का मुंह बंद करना।

इस बीच बीते दिनों स्वरा अपने एक ट्वीट को लेकर ट्रोलर्स के निशाने पर आ गईं। इस ट्वीट को इंडियन आर्मी से जोड़कर देखा गया, जिसको लेकर स्वरा को जमकर कोसा गया। हालांकि ट्रोलर्स को अब स्वरा ने अपने अंदाज में जवाब दिया है। उन्होंने ट्रोलर्स को नसीहत देते हुए कहा कि उनका पुराना ट्वीट  इंडियन आर्मी के लिए नहीं बल्कि ऊना की घटना से जुड़ा था। 

स्वरा ने नए ट्वीट में क्या कहा
अपने पिछले ट्वीट का जवाब देते हुए स्वरा ने कहा, 'स्पष्ट रूप से गुजरात के ऊना मामले का जिक्र रह रही हूं। समाचार पत्रों को पढ़ें और अपने दिमाग का उपयोग करें या न करें...'

क्या है पूरा विवाद
दरअसल, बीते दिनों स्वरा ने एक ट्वीट किया था। जिसको लेकर उनपर आर्मी का अपमान करने तक का आरोप लगाया गया। उन्होंने अपने इस ट्वीट में कहा था, 'कुछ ऊंची जाति के लोगों ने कुछ लोगों को जीप पर बांधकर सार्वजनिक रूप से घुमाया और फिर इसका वीडियो भी बनाया, #ButLiberalsAreFanatics।'

स्वरा के इस ट्वीट को कश्मीर में मेजर गोगोई द्वारा एक पत्थरबाज को जींप से बांधकर घुमाने से जोड़कर देखा गया। जिसके बाद सोशल मीडिया पर उन्हें जमकर खरी घोटी सुनाईं गईं। दरअसल, हाल ही के दिनों में स्वरा भास्कर ने ट्विटर पर एक या दो नहीं बल्कि कई ट्वीट किए। अपने इन ट्वीट्स से उन्होंने देश में फैले भ्रष्टाचार, उन्मादी हिंसा, ऑनर किलिंग, जातिवाद और समुदायवाद मुद्दों को उठाया।

इन गंभीर मुद्दों को हाइलाइट करने के लिए उन्होंने #ButLiberalsAreFanatics और #SadhguruSays हैशटेग का सहारा लिया। उनके जीप से बांधकर शख्स को घुमाने वाले ट्वीट को मेजर लीतुल गोगोई को टारगेट करने के रूप में देखा गया। हालांकि विवाद बढ़ने के बाद स्वरा ने अब स्पष्ट किया है कि उनका ट्वीट गुजरात के ऊना के लिए था। साथ ही उन्होंने अब ट्रोलर्स को अपना दिमाग इस्तेमाल करने की भी नसीहत दे डाली है।

मेजर गोगोई से जुड़ा मामला क्या है
बता दें कि साल 2017 में कश्मीर में उपचुनाव के दौरान मेजर गोगोई ने पोलिंग बूथ को पत्थरबाजों से बचाने के लिए एक पत्थर फेंकने वाले शख्स को जीप के बोनट पर बांधकर घुमाया था। गोगोई के इस कार्य की वाहवाही भी हुई थी। हालांकि उन्हें ऐसा करने के लिए सफाई भी देनी पड़ी थी।

इस घटना के बाद गोगोई ने कहा था कि श्रीनगर लोकसभा उपचुनाव में मतदान के दौरान चारों तरफ से लोगों ने पत्थर फेंकना शुरू कर दिया था। उनका फोकस पोलिंग स्टाफ को बचाना था। ये घटना अप्रैल 2017 की है।

स्वरा और विवाद का रिश्ता

- कभी पाकिस्तान की तारीफ तो कभी बुराई
स्वरा भास्कर अक्सर अपनी बेबाकी के कारण विवादों में घिर जाती है। बीते दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें स्वरा पाकिस्तान की तारीफ करते नजर आ रही हैं। हालांकि ये वीडियो 2005 का था, जब स्वरा पहली बार पाकिस्तान गई थी। इस दौरान उन्होंने वहां दिए एक इंटरव्यू में पाकिस्तान की खूब तारीफ की थी। उन्होंने कहा था- लाहौर, लंदन, पेरिस, न्यूयॉर्क से भी बेहतर है। हालांकि, पाकिस्तान को लेकर स्वरा के सुर उस वक्त बदल गए, जब उनकी फिल्म 'वीरे दी वेडिंग' को पाकिस्तान में बैन कर दिया था। स्वरा ने इसको लेकर पाकिस्तान को असफल राष्ट्र तक कह दिया था। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को शरिया कानून द्वारा चलाया जाता है। हालांकि उनके पुराने वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल पर स्वरा को गिरगिट तक कहा गया।

- पद्मावत को लेकर ओपन लेटर
अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने निर्देशक संजय लीला भंसाली को फिल्म पद्मावत को लेकर खुला पत्र लिखा था, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था और जमकर बहस भी हुई थी। उन्होंने इस पत्र में लिखा था कि 'पद्मावत' देखने के बाद उन्हें ऐसा महसूस हुआ कि वह एक 'वेजाइना' तक सिमट कर रह गई हैं। कई दर्शकों के मुताबिक इस प्रथा को 'जश्न' के रूप में प्रस्तुत किया गया।

Posted By: Nancy Bajpai