राज्य ब्यूरो, कोलकाता। आसनसोल के कोयला माफिया राजेश झा उर्फ राजू के साथ अवैध 33 लाख रुपये व सात असलहे तथा 89 चक्र कारतूस के साथ गिरफ्तार नेता मनीष शर्मा को छह माह पहले ही भाजपा ने निलंबित कर दिया था। भाजपा के राज्य सचिव सायंतल घोष का कहना है कि गैरकानूनी गतिविधियों में संलप्तिता की वजह से जून में ही शर्मा को पार्टी से निलंबित कर दिया गया था।

इसे भाजपा के प्रदेश नेतृत्व का डैमेज कंट्रोल माना जा रहा है। वहीं प्रदेश सचिव व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के बयान में भी अंतर दिख रहा है। गिरफ्तारी के बाद मंगलवार को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा था कि शर्मा अवैध गतिविधि में संलिप्त हैं तो उसे खुद को निर्दोष प्रमाणित करना होगा, तभी उन्हें पार्टी में वापस लिया जा सकेगा। उसने जो कुछ भी किया है वह उसका व्यक्तिगत मामला है इसका भाजपा से कुछ लेनादेना नहीं है।

वहीं इससे पहले शिशु तस्करी के मामले में विधाननगर के भाजपा नेता व निकाय चुनाव में प्रत्याशी रहे एक नेता की पहले ही गिरफ्तारी हो चुकी है। इसके बाद शर्मा की गिरफ्तारी ने तृणमूल कांग्रेस, कांग्रेस और माकपा को भाजपा के खिलाफ एक और मुद्दा दे दिया है। इसे लेकर तृणमूल, कांग्रेस और माकपा नेता लगातार भाजपा पर हमलावर हैं।

तृणमूल नेताओं का कहना है कि इन गिरफ्तारी से साफ होता है कि सबसे अधिक कालाधन व अवैध कारोबार भाजपा नेता ही कर रहे हैं। सोमवार की रात को कोलकाता पुलिस की एसटीएफ ने कोलकाता व बागुइहाटी में छापेमारी कर सात लोगों को गिरफ्तार किया था, जिसमें कोयला माफिया के साथ-साथ भाजपा नेता भी शामिल है। उन सातों को रिमांड पर लेने के बाद पूछताछ की जा रही है। अभी यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि वे लोग किन कारणों से ब‌र्द्धमान से कोलकाता आए थे। पुलिस ने पहले कहा था कि हथियार खरीदने के लिए वे लोग कोलकाता आए थे। बाद में कहा गया कि शायद पुराने नोट को बदल कर नया नोट लेने के लिए आए थे।

ड्राइवर का सुसाइड नोट- जनार्दन रेड्डी ने किया 100 करोड़ को Black से White

Posted By: Manish Negi