नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। दस करोड़ का लक्ष्य लेकर शुरू किए गए सदस्यता अभियान के आखिरी पड़ाव में अब भाजपा लक्ष्य से पार पहुंचने की भी आशा जताने लगी है। एक महीने का समय जहां पहले ही बढ़ा दिया गया है। वहीं पार्टी नेताओं का मानना है कि बेंगलुरु में होने वाली राष्ट्रीय कार्यकारिणी के बाद घर-घर जाकर सदस्यों की गणना होगी तो संख्या लक्ष्य से काफी अधिक हो सकती है।

सदस्यता के लिहाज से विश्व की सबसे बड़ी पार्टी बनने का उत्साह यूं तो कार्यकारिणी में भी दिखेगा। लेकिन उससे पहले ही भाजपा कार्यालय में इसका प्रदर्शन भी शुरू हो गया है। बड़ी स्क्रीन लगाकर हर पल बढ़ते हुए सदस्यों की संख्या दिखाई जा रही है। बुधवार की शाम तक यह नौ करोड़ 13 लाख के पार जा चुकी थी। पार्टी के एक महासचिव के अनुसार अगले एक महीने में दो-ढाई करोड़ और सदस्य जुड़ सकते हैं। कार्यकारिणी की बैठक के बाद घर-घर जाकर मिस्ड काल के जरिए बने सदस्यों तक पहुंचा जाएगा और संभव है कि उनके घर के दूसरे सदस्य भी जुड़ें। उन्हें भाजपा की विचारधारा से संबंधित सामग्री भी दी जाएगी और आगे इसके विस्तार की योजना भी समझाई जाएगी।

बताते हैं कि बेंगलुरु कार्यकारिणी को सदस्यता अभियान से जोड़ते हुए उन राज्यों में विशेष तौर पर विस्तार की रणनीति पर भी चर्चा होगी जहां भाजपा फिलहाल कमजोर है। पूर्वोत्तर के साथ ही दक्षिण के राज्यों पर इस बाबत चर्चा हो सकती है। फिलहाल पश्चिम बंगाल पर विशेष नजर है जहां अगले साल चुनाव हैं। लेकिन उससे पहले भाजपा पूर्वोत्तर में अपनी पैठ चाहती है। इसी रणनीति को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय मंत्रियों कोभी पूर्वोत्तर का दौरा करने को कहा गया है। प्रधानमंत्री खुद पूर्वोत्तर के राज्यों का दौरा कर चुके हैं। जबकि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह भी वहां के दौरे पर जाने वाले हैं।

राजनीति के मैदान की विश्व चैंपियन भाजपा, चीन को छोड़ा पीछे

संघ ने भाजपा से कहा, 10 महीने में सरकार की छवि खराब हुई

Edited By: Rajesh Niranjan