नई दिल्ली, जेएनएन। 2019 खत्म होने को है। इसके साथ ही यह दशक वक्त के सागर में समां रहा है। 2010 से 2019 के बीच हमारे देश में भी बहुत कुछ बदला है। आइये जानते हैं, इस दशक के दौरान भारत में घटी उन 10 घटनाओं के बारे में जिन्होंने समाज, देश और यहां की राजनीति पर सबसे गहरा प्रभाव डाला है। 

2014 में नरेंद्र मोदी का प्रधानमंत्री बनना

साल 2014 में केंद्र की राजनीतिक में बड़ा बदलाव हुआ। 13 साल तक गुजरात के मुख्यमंत्री रहने के बाद भाजपा के पीएम कैंडिडेट नरेंद्र मोदी पूर्ण बहुमत के साथ सदन में पहुंचे। पांच साल तक सत्ता में रहने के बाद 2019 में नरेंद्र मोदी एक बार फिर प्रधानमंत्री बने। वह भी पिछली बार से ज्यादा सीटें जीतकर।

निर्भया केस

देश की राजधानी दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 को पैरामेडिकल की छात्रा निर्भया के साथ सामूहिक दुष्कर्म की शर्मनाक घटना घटी। इसने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया और साथ ही महिला सुरक्षा को लेकर कई सवाल खड़े हुए। इस घटना के विरोध में शुरू हुए विरोध प्रदर्शन देश भर में फैल गए। इसके बाद दुष्कर्म विरोधी कानून को और कठोर बनाने के लिए जस्टिस जेएस वर्मा की अध्यक्षता में कमेटी गठित की गई। फिर कमेटी की सिफारिशों के आधार पर कानून में बदलाव हुआ।

अन्ना आंदोलन

2011 में जन लोकपाल बिल की मांग के साथ अन्‍ना हजारे ने दिल्‍ली स्थित जंतर-मंतर पर अपना अनशन शुरू किया। जल्द ही इस अनशन ने राष्ट्रव्यापी आंदोलन का रूप ले लिया। अन्ना आंदोलन के चलते भ्रष्टाचार के खिलाफ जनता का गुस्सा फूट पड़ा। उस समय की यूपीए सरकार को झुकना पड़ा। सरकार ने जनलोकपाल बिल के लिए संयुक्त समिति बनाने का नोटिफिकेशन जारी कर दिया। 

आर्टिकल 370 का खात्मा

भारतीय संविधान का अनुच्छेद 370 एक ऐसा अनुच्छेद था जो जम्मू और कश्मीर को स्वायत्तता का दर्जा देता था। पांच अगस्त 2019 को दोनों सदनों में पास होने के बाद आर्टिकल 370 को हटा दिया गया। 

राम मंदिर पर फैसला

9 नवंबर को सु्प्रीम कोर्ट ने अयोध्या पर अंतिम फैसला सुनाया था। इसके साथ ही दशकों से चला आ रहा विवाद समाप्त हो गया और राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ हो गया।

2017 में आया जीएसटी

एक जुलाई 2017 को भारतीय संसद ने जीएसटी बिल पास किया। यह देश की आजादी के बार हुए सबसे बड़े टैक्स रिफार्म में से एक था। इसके साथ ही एक देश, एक बाजार और एक टैक्स की मुहिम सफल हुई।

2016 में नोटबंदी

8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रात के आठ बजे राष्ट्र को संबोधित किया। और उन्होंने पूरे देश में 500 और 1000 के नोट बंद कर दिए। नोटबंदी का मकसद काले धन को रोकना और डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देना था।  

2016 में सर्जिकल स्ट्राइक

सितंबर 2016 में भारतीय सेना ने जम्मू एवं कश्मीर की सीमा पार करके पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया। इस ऑपरेशन के दौरान आतंकियों के लांच पैड को नष्ट किया गया और कई आतंकियों को भी मार गिराया गया। यह सर्जिकल स्ट्राइक भारतीय सेना के उरी कैंप पर किए गए हमले का जवाब था। इस हमले में 19 सैनिक शहीद हुए थे।

फरवरी 2019 में बालाकोट एयरस्ट्राइक

26 फरवरी 2019 को भारतीय वायुसेना के विमानों ने पाकिस्तान की सीमा में  घुसकर बालाकोट में बम गिराए। भारतीय विमानों का निशाना जैश ए मोहम्मद के आतंकी ट्रेनिंग कैंप थे। दो हफ्ते पहले ही जैश के आतंकियों ने पुलवामा में भारतीय सेना के कैंप पर धमाके किए थे। इस हमले में भारतीय सेना के 40 जवान शहीद हो गए थे।

कामयाब रहा मिशन मंगल

सितंबर 2014 में भारत की अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने इतिहास रच दिया। भारत का मंगलयान सफलता पूर्वक मंगल तक पहुंचने में कामयाब हुआ। भारत दुनिया का पहला ऐसा देश है, जिसने पहले ही प्रयास में यह सफलता हासिल की है। इस मिशन पर सिर्फ 74 मिलियन डॉलर (करीब 500 करोड़ रुपये) का खर्च आया था। 

Posted By: Vineet Sharan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस