Move to Jagran APP

ED Raid: 20 हजार करोड़ की मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ED की बड़ी कार्रवाई, दिल्ली-NCR से लेकर मुंबई-नागपुर तक ताबड़तोड़ छापेमारी

प्रवर्तन निदेशालय ने ने 20 हजार करोड़ के मनी लॉन्ड्रिंग मामले में छापेमारी की है। यह छापेमारी एक कंपनी और उसके प्रमोटरों के खिलाफ की गई है। इन प्रमोटरों पर 20000 करोड़ रुपये से अधिक के कथित बैंक ऋण धोखाधड़ी को अंजाम देने का आरोप है। इस कार्रवाई के तहत दिल्ली गुरुग्राम नोएडा मुंबई और नागपुर में करीब 35 व्यावसायिक और आवासीय परिसरों पर छापेमारी की जा रही है।

By Agency Edited By: Babli Kumari Thu, 20 Jun 2024 01:19 PM (IST)
बैंक लोन धोखाधड़ी में ईडी की बड़ी कार्रवाई (प्रतिकात्मक फोटो)

पीटीआई, नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय ने गुरुवार को दिल्ली-एनसीआर, मुंबई और नागपुर में करीब 35 परिसरों की तलाशी ली। यह छापेमारी एक कंपनी और उसके प्रमोटरों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग जांच के तहत की गई है। इन प्रमोटरों पर 20,000 करोड़ रुपये से अधिक के कथित बैंक ऋण धोखाधड़ी को अंजाम देने का आरोप है। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी।

ईडी की यह छापेमारी एमटेक ग्रुप और उनके निदेशकों पर की जा रही है, जिसमें अरविंद धाम, गौतम मल्होत्रा और अन्य लोगों का नाम शामिल है। दिल्ली, गुरुग्राम, नोएडा, मुंबई और नागपुर में लगभग 35 व्यावसायिक और आवासीय परिसरों पर छापेमारी की जा रही है। यह जांच एमटेक ग्रुप की एक एकाई एसीआईएल लिमिटेड के खिलाफ सीबीआई की जांच से शुरू हुई।

सुप्रीम कोर्ट ने भी की थी ईडी जांच की मांग 

सूत्रों ने बताया कि यह जांच एमटेक समूह की इकाई 'एसीआईएल लिमिटेड' के खिलाफ सीबीआई की प्राथमिकी से शुरू हुई है। जांच में कई सूचीबद्ध कंपनियों में 20,000 करोड़ रुपये से अधिक की बैंक धोखाधड़ी का आरोप है। जानकारी में आगे बताया गया कि सुप्रीम कोर्ट ने भी ईडी जांच की मांग की थी। सूत्रों ने बताया कि ईडी के अनुसार इससे सरकारी खजाने को लगभग 10,000-15,000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ।

सूत्रों से मिली जानकारी में यह भी बताया गया कि अधिक ऋण प्राप्त करने के लिए समूह ने फर्जी बिक्री, पूंजीगत संपत्ति, देनदार और लाभ दिखाया, ताकि उसे गैर निष्पादित संपत्ति का टैग न मिले। इसी के साथ आरोप लगाया गया कि सूचिबद्ध शेयरों में धांधली की गई थी।

यह भी पढ़ें- सरकार ने क्यों रद्द की NET परीक्षा? जानिए क्या कहता है एंटी पेपर लीक कानून और कितनी मिलती है सजा