बेंगलुरु,एएनआइ। बेंगलुरु के पुलिस आयुक्त भास्कर राव ने कहा कि हमने पिछले साल ऑनलाइन मार्केटप्लेस के माध्यम से धोखाधड़ी के 316 मामले दर्ज किए थे। हमने राजस्थान के भरतपुर से सक्रिय एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है और साथ ही 5 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसी गिरोह ने 316 मामलों में से 200 को अंजाम दिया है। फिलहाल आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। 

जानकारी के लिए बता दें कि हाल ही में बेंगलुरु वासियों के इंटरनेट इस्तेमाल करने पर एक सर्वे हुआ था। इस सर्वे में चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। सर्वे के अनुसार,  सिर्फ 47 फीसदी बेंगलुरु के लोग ही साइबर क्राइम को लेकर पुलिस को रिपोर्ट करते हैं। बकि 20 फीसदी लोग रिपोर्ट तो करना चाहते हैं लेकिन पुलिस के चक्कर में फंसने के डर से उनके पास नहीं जाते। वहीं 33 फीसदी लोग ऐसे भी है जो साइबरक्राइम को रिपोर्ट करने ही नहीं जाते। 

इस सर्वे में जो सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात सामने आई वो ये थी कि  30 फीसदी बेंगलुरु वासी फोन पर अजबनियों के साथ ओटीपी शेयर करते हैं। वहीं, 47 फीसदी लोग किसी भी अजनबी के पूछने पर अपना फोन नंबर और एड्रेस भी बता देते हैं। गौरतलब है कि 11 फरवरी को ये सर्वे  सेफर इंटरनेट डे के मद्देनजर ई-कॉमर्स पोर्टल ओएलएक्स ने कराया था। सर्वे में 18 वर्ष की आयु से लेकर 55 वर्ष तक के 7500 लोगों को शामिल किया गया था। 

इतना ही नहीं सर्वे में ये भई सामने आया था कि  बेंगलुरु के लोग सिर्फ ऑनलाइन शॉपिंग, यूटिलिटी बिल पेमेंट और मनी ट्रांसफर के लिए ही ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते हैं। 52 फीसदी बेंगलुरुवासी ऑनलाइन के बजाय ऑफलाइन ट्रांजैक्शन पर ज्यादा यकीन रखते हैं। 17 फीसदी लोग ऐसे भी है जो ऑनलाइन किसी भी तरह के लेनदेन में भरोसा नहीं करते है। वहीं, 31 फीसदी लोग दोनों तरह के ट्रांजैक्शन पर भरोसा करते है। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस