गुवाहाटी, एएनआई। असम के मशहूर कामाख्या मंदिर के पास एक महिला की सिरकटी लाश मिलने से सनसनी फैल गई है। मंदिर के पास शव मिलने से आशंका जताई जा रही है कि महिला की हत्या नरबलि के इरादे से की गई है। इस घटना से इलाके में दहशत का माहौल है। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस महिला के हत्यारे की तलाश कर रही है। साथ ही नरबलि की आशंका के मद्देनजर भी मामले की जांच कर रही है।

न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार महिला का सिरकटा शव कामाख्या मंदिर के पास नीलांचल की पहाड़ियों में मिला है। इस घटना से पुलिस-प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है क्योंकि शनिवार से यहां सालाना अंबुबाची मेला भी शुरू होने वाला है। अंबुबाची मेला यहां का सबसे बड़ा धार्मिक मेला होता है। इस मेले में देश-विदेश से लाखों की संख्या में श्रद्धालु यहां पूजा-पाठ करने आते हैं। इस बार केंद्रीय पर्यटन राज्यमंत्री प्रहलाद सिंह पटेल 21 जून को इस मेले का उद्घाटन करने वाले हैं।

26 जून तक आयोजित होने वाले इस मेले के उद्घाटन से पहले नरबलि की आशंका ने अधिकारियों में और हड़कंप मचा दिया है। गुवाहाटी के पुलिस कमिश्नर दीपक कुमार ने बताया कि मृत महिला की आयु तकरीबन 45 वर्ष प्रतीत हो रही है। उसका शव दुर्गा मंदिर को जाने वाले रास्ते पर मिला है।

इसलिए है नरबलि की आशंका

वहीं ज्वाइंट कमिश्नर देबराज उपाध्याय ने बताया कि महिला के शव के पास से पूजन सामग्री मिलने से नरबलि की आशंका प्रबल है। फॉरेंसिक टीम के जरिए मौके से जांच के नमूने एकत्र किए गए हैं। पुलिस आसपास के लोगों से भी घटना के संबंध में पूछताछ कर रही है। मृत महिला की पहचान करने का प्रयास किया जा रहा है। उसकी पहचान होने से कातिल तक पहुंचना आसान हो जाएगा। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से स्पष्ट होगा कि महिला की हत्या कितनी देर पहले हुई है और उसकी हत्या मौके पर ही की गई है या कहीं से मार कर उसे यहां लाया गया था।

2012 में भी ऐसे ही मिला था शव

कामाख्या मंदिर में महिला का शव मिलने की ये कोई पहली घटना नहीं है। इससे पहले वर्ष 2012 में भी यहां एक पुरुष का सिर कटा शव मिला था। इससे पहले 2003 में स्थानीय लोगों ने एक पुजारी द्वारा नरबलि के प्रयास को नाकाम कर दिया था। वह पुजारी अपनी बालिग बेटी की बलि देने जा रहा था। अब महिला का सिर कटा शव मिलने से एक बार फिर क्षेत्र में नरबलि की चर्चाएं तेज हो गई हैं। वहीं मंदिर के पुजारी नरबलि की आशंका को सिरे से खारिज कर रहे हैं। पुजारियों का मानना है कि ये शरारती तत्वों का काम है। ये स्पष्ट तौर से एक आपराधिक घटना है। पुलिस को भ्रमित करने के लिए शव के आसपास पूजन सामग्री रखी गई है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Amit Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप