नई दिल्ली [जागरण ब्यूरो]। भारत ने चीन से आने वाले दूध और उसके उत्पादों की खराब गुणवत्ता की वजह से उन पर छह माह के लिए और प्रतिबंध लगा दिया है। प्रतिबंध की श्रेणी में चॉकलेट व चॉकलेट युक्त अन्य उत्पादों को शामिल किया गया है। जिन पर प्रतिबंध इस वर्ष के 23 दिसंबर तक जारी रहेगा। लेकिन इसकी गुणवत्ता में सुधार न होने पर प्रतिबंध को आगे बढ़ाया जा सकता है।

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के विदेश व्यापार निदेशालय की संबंधित समिति के साथ बैठक हुई, जिसमें चीनी दूध और उसके उत्पादों पर एक बार फिर प्रतिबंध लगा दिया। खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण की ओर से मामले में 14 जून को अधिसूचना जारी की गई है।
Image result for chinese product

भारत के खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) की भारत सरकार के संबंधित मंत्रालयों के साथ 11 जून की समीक्षा बैठक हुई, जहां चीनी दूध और उसके उत्पादों की खराब गुणवत्ता और मानव स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर डालने वाली एक रिपोर्ट सामने आई। इसके बाद चीनी उत्पाद पर प्रतिबंध का निर्णय लिया गया।

चीनी उत्पादों पर सबसे पहले वर्ष 2008 में छह माह का अंतरिम प्रतिबंध लगाया गया था। हालांकि इसके बाद प्रतिबंध आगे बढ़ता रहा। भारत की ओर से आखिरी बार 22 जून 2017 को 23 जून 20018 तक के लिए प्रतिबंध बढ़ाया गया था, जिसे अब 22 दिसंबर 2018 तक कर दिया गया है।

Posted By: Vikas Jangra