पुंछ (जागरण संवाददाता)। शहीद औरंगजेब को जिस समय आतंकवादियों ने अगवा किया उस समय वह घर में फोन पर बात कर रहा था। परिजनों का कहना है कि वह बार-बार कह रहा था मुझे क्यों उतार रहे हो। उसके बाद उसका फोन बंद हो गया। औरंगजेब के पिता व परिवार के अन्य सदस्यों ने कहा कि औरंगजेब 20 मिनट से हम लोगों के साथ बात कर रहा था। जैसे ही उसे आतंकवादियों ने अगवा किया उसकी आवाज हमें सुनाई दे रही थी। वह बार-बार आतंकवादियों को बोल रहा था कि मुझे क्यों उतार रहे हो मुझे कहां ले जा रहे हो। उसके बाद उसका फोन बंद हो गया। उसी समय हम समझ गए थे हमारे बेटे को आतंकवादी अगवा करके अपने साथ ले गए है। इसके कुछ ही समय के बाद सेना के अधिकारी व जवान घर में पहुंच गए और उन्होंने कहा कि औरंगजेब को अगवा कर लिया गया है।

अधिकारी बनने की तैयार कर रहा था औरंगजेब

शहीद औरंगजेब के परिवार के सदस्यों और मित्रों का कहना है कि औरंगजेब सेना में बतौर अधिकारी बनने की तैयारी में दिन रात जुटा हुआ था। थोड़े ही समय बाद उसे परीक्षा देनी थी इससे पहले ही वह शहीद हो गया। ग्रामीणों ने बताया कि 12 कक्षा पास करने के बाद औरंगजेब सेना में भर्ती हो गया। सेना में भर्ती होने के बाद उसने अपनी पढ़ाई को जारी रखा और ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी कर चुका था। अब सेना में अधिकारी बनने की तैयारी में जुटा हुआ था।

आतंकियों ने जारी किया शहीद औरंगजेब का आखिरी वीडियो

औरंगजेब को अगवा कर मौत के घाट उतारने के एक दिन बाद शुक्रवार को आतंकियों ने उन्हें यातनाएं देने का वीडियो जारी किया है। सैन्यकर्मी औरंगजेब को गोली मार शहीद करने से पूर्व आतंकियों ने बेरहमी से पिटाई की थी। जवान के कपड़ों पर मिट्टी लगी हुई थी। चेहरे पर भी मारपीट के निशान साफ नजर आ रहे थे।

Posted By: Arti Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस