नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बृहस्पतिवार को नई दिल्ली में बिम्सटेक पार्टनर राष्ट्रों के लिए ड्रग ट्रैफिकिंग के संयोजन पर दो दिवसीय सम्मेलन का उद्घाटन किया।

बता दें कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो द्वारा आयोजित बिम्सटेक देशों के लिए नारकोटिक्स ड्रग्स जैसे संवेदनशील विषय पर 2 दिन का सम्मेलन आयोजित किया गया है। उद्घाटन समारोह में संबोधित करते हुए अमित शाह ने बताया कि इन दो दिनों में इन विषयों से सबंधित सभी पहलुओं पर आप सभी के बीच विचार विमर्श होगा और कुछ निर्णय भी लिए जाएगा। उन्होंने साथ ही कहा कि पिछले 2 दशकों में, बिम्सटेक में बड़े पैमाने पर विकास हुआ है। यात्रा, हालांकि, अभी भी लंबी है। हमारे आर्थिक एकीकरण के लिए अभी भी बहुत सारे अवसर हैं।

नशीले पदार्थों पर समन्वय किया स्थापित  

उन्होंने आगे कहा कि भारत सरकार ने नशीले पदार्थों की अंतरराष्ट्रीय तस्करी को रोकने हेतु अंतराष्ट्रीय स्तर पर समन्वय स्थापित किया है। पिछले पांच वर्षों में भारत ने बांग्लादेश, श्रीलंका, इंडोनेशिया, सिंगापुर, म्यांमार और रूस के साथ नियमित द्विपक्षीय वार्ताओं को भी आयोजित किया है।

सबको साथ मिलकर काम करने की जरुरत 

अब तक हमने जिस नीति या सोच के साथ मादक पदार्थों का सामना किया है, अब इस नई परिस्तिथि में वो नीतियां सफल हो पाएंगी, ये जरूरी नहीं है। हम सबको मिलकर कुछ ऐसे नए विचार करने पड़ेंगे, जिससे हम इस परिस्थिति से निपट सकें।

क्या है BIMSTEC

बिम्सटेक (BIMSTEC), जिसका पूरा नाम बंगाल की खाड़ी बहु-क्षेत्रीय तकनीकी और आर्थिक सहयोग उपक्रम (Bay of Bengal Initiative for Multi-Sectoral Technical and Economic Cooperation) है, बंगाल की खाड़ी से तटवर्ती या समीपी देशों का एक अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक सहयोग संगठन है। बिम्सटेक बंगाल की खाड़ी के आसपास स्थित सात देश शामिल है।  जिसमें भारत, बांग्लादेश, भूटान, म्यांमार, नेपाल, श्रीलंका और थाईलैंड शामिल हैं।

Posted By: Ayushi Tyagi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस