नई दिल्ली [प्रेट्र]। राजधानी और अन्य सुपरफास्ट ट्रेनों में रेल नीर के स्थान पर सस्ता सीलबंद पानी बेचने की मनीलांड्रिंग जांच के सिलसिले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कैटरिंग फर्मो की 17.55 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्त कर ली हैं।

ईडी ने एक बयान जारी कर बताया कि प्रिवेंशन ऑफ मनी लांड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत मैसर्स आरके एसोसिएट्स एंड होटेलियर्स प्राइवेट लिमिटेड, मैसर्स सत्यम कैटरर्स प्राइवेट लिमिटेड, मैसर्स बृंदावन फूड प्रोडक्ट्स लिमिटेड, मैसर्स फूड व‌र्ल्ड, मैसर्स आरडी शर्मा, मैसर्स पीके डेलिकेसीस और मैसर्स दून कैटरर्स के खिलाफ प्रोविजनल ऑर्डर फॉर अटैचमेंट ऑफ एसेट्स जारी किया गया है।

दरअसल, जांच के दौरान पता चला कि इन लाइसेंसधारकों ने रेलवे विभाग से प्राप्त धनराशि से अन्य ब्रांडों के पेयजल की आपूर्ति की, जो एक अपराध है। बता दें कि ईडी ने इस मामले में सीबीआइ एफआइआर के आधार पर केस दर्ज किया था।

Posted By: Vikas Jangra