इम्फाल (एएनआई)। असम में पिछले कुछ दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश के कारण भयंकर बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गई है। जिससे राज्य के 13 जिलों के करीब 4 लाख लोग इसमें बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। बाढ़ का पानी राज्य के काजीरंगा नेशनल पार्क के निचले इलाकों में पहुंच चुका है जिसके बाद जनजीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है।

राज्य की अधिकतर नदियां खतरे के निशान से उपर पहुंच चुकी हैं। ब्रहमपुत्र नदी में आई बाढ़ के कारण गुवाहाटी और उत्तर गुवाहाटी के बीच फेरी सेवा निलंबित कर दी गई है। राज्य आपदा रिस्पांस फोर्स (एसडीआरएफ) ने 400 विद्यार्थियों को इस बाढ़ से निकाल कर नलबरी जिले में सुरक्षित स्थानों तक पहुंचा दिया है। 3 जुलाई को लखीमपुर में बाढ़ से एक की जान चली गई।

इसके अलावा करीमगंज और गोलाघाट जिले के लोग बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। लगभग 24,000 लोग 108 राहत कैंपों में शरण लिए हैं। उनके बीच पीने का पानी, चावल जैसी राहत की सामग्री वितरित की गई है। इसके अलावा बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में चिकित्सकीय सहायता भी प्रदान की जा रही है। बताया जाता है कि, बाढ़ में सड़क सहित गायों के झुंड, घर, मकान सभी बुरी तरह नष्ट हो चुके हैं।

यह भी पढ़ें : बिहार: मधुबनी में तटबंध क्षतिग्रस्‍त, बाढ़ आई तो मचेगी भारी तबाही

Edited By: Srishti Verma