असम, एएनआइ। असम में भारी बारिश और बाढ़ से भारी तबाही देखने को मिल रही है। बाढ़ और भूस्खलन की दोहरी मार लोग झेल रहे हैं। बाढ़ की स्थिति में कुछ खास सुधार नहीं हो रहा है। बाढ़ के कारण फसलें बर्बाद हो रही हैं। असम के 34 जिलों में से 22 जिलें गंभीर रूप से बाढ़ग्रस्त हैं। नागांव ज़िले के दिफालू गांव में किसान अपने बाढ़ग्रस्त खेतों में धान की फसल काट रहे हैं। किसानों का कहना है कि उन्होंने अपनी फसल का एक बड़ा हिस्सा इस बाढ़ में खो दिया है।

दिमासा ज़िले में काफी मात्रा में हुई बारिश

असम के नागांव जिले के उपायुक्त निसर्ग हिवारे ने कहा - नागांव ज़िले में बाढ़ की स्थिति थोड़ी खराब थी क्योंकि दिमासा ज़िले में काफी मात्रा में बारिश हुई थी, जिस कारण कोकिली नदी अपने खतरे के निशान और हाई फ्लड लेवल के काफी ऊपर बह रही थी। इस वजह से 250 गांव प्रभावित हुए हैं। अभी तक 6 मृत्यु दर्ज़ की गई है। इस बाढ़ की स्थिति में SDRF, NDRF और रेलवे ने रेस्क्यू में काफी मदद की। अभी 162 राहत शिविर और राहत आश्रय है जिसमें लगभग 20 हजार लोगों को हर जरूरी साधन हम पहुंचा चुकें हैं।

बाढ़ की वजह से ट्रेन सेवाएं प्रभावित

एनएफ रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी, सब्यसाची डे ने जानकारी दी है - असम के दीमा हसाओ क्षेत्र में हाल ही में हुए भूस्खलन और बाढ़ ने क्षेत्र में ट्रेन सेवाओं को प्रभावित किया है। 60 स्थानों पर नुकसान हुआ था, जिसमें से 11 को बहाल कर दिया गया था, शेष क्षेत्र में काम चल रहा है।

बाढ़ की चपेट में 22 जिले

इस बीच, राज्य के 34 में से 22 जिलों में 7.19 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। एएसडीएमए की विज्ञप्ति में 22 जिलों के 2,095 गांवों के 1,41,050 बच्चों सहित कुल 7,19,425 लोग प्रभावित हुए हैं। इसने कहा कि आपदा प्रतिक्रिया बलों और स्वयंसेवकों की मदद से कुल 26,489 फंसे हुए लोगों को निकाला गया है। सभी प्रभावित क्षेत्रों में कुल 624 राहत शिविर और 729 राहत वितरण केंद्र खोले गए हैं। कुल 1,32,717 लोग राहत शिविरों में रह रहे हैं। 1,30,596.12 हेक्टेयर से अधिक फसल प्रभावित हुई है।

अर्धसैनिक बल, एसडीआरएफ तैनात

राहत और बचाव कार्य के लिए सेना, असम राइफल्स, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ), और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ), भारतीय सेना, नागरिक सुरक्षा, अर्धसैनिक बल, भारतीय वायु सेना, जिला प्रशासन के साथ, अग्निशमन और आपातकालीन सेवाओं, जिला प्रशासन की मदद कर रहे हैं। प्रभावित क्षेत्रों से लोगों की सुरक्षित निकासी में मदद कर रहे हैं।

वायुसेना ने संभाला मोर्चा

असम में बाढ़ के जारी कहर को देखते हुए वायुसेना ने मोर्चा संभाल लिया है। वायुसेना के जवान राहत और बचाव कार्य में जुटे हुए हैं। वह बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के साथ ही बचाव दल और राहत सामग्री को बाढ़ के कारण कटे हुए क्षेत्रों में भी पहुंचा रहे हैं। एएसडीएमए की विज्ञप्ति के अनुसार, भारतीय वायु सेना की मदद से अब तक 25 मीट्रिक टन आवश्यक वस्तुओं को एयरड्रॉप किया जा चुका है। (आईएएफ) दीमा हसाओ में। इसमें कहा गया है कि 20 नावों के साथ एनडीआरएफ की चार टीमों को कछार, होजई, नगांव और दीमा-हास में तैनात किया गया है।

एनईएसएसी/इसरो के विशेषज्ञों की एक टीम पहले से ही दीमा हसाओ में ड्रोन और उपग्रह डेटा का उपयोग करके आपदा के बाद की आवश्यकता के आकलन के बारे में बाद में सूचित करने के लिए तेजी से नुकसान का आकलन कर रही है।

Edited By: Babli Kumari