जयपुर [जागरण संवाददाता]। गुजरात पुलिस को दो बहनों से दुष्कर्म के आरोपी कथावाचक आसाराम को ट्रांजिट रिमांड पर जोधपुर से गुजरात ले जाने की अनुमति मिल गई। शुक्रवार को जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने आसाराम को 25 अक्टूबर को जोधपुर में पेश करने के लिए कहा।

आसाराम करते थे विवाहिताओं का भी शोषण

नारायण साई के बिहार के रास्ते नेपाल भागने की आशंका

उल्लेखनीय है कि गुजरात पुलिस ने आसाराम के ट्रांजिट वारंट के लिए गुरुवार को कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी। कोर्ट ने इस मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया था। इससे पहले जोधपुर आश्रम में नाबालिग छात्रा के यौन उत्पीड़न मामले में अदालत ने आसाराम की जमानत याचिका खारिज करते हुए उनकी न्यायिक हिरासत 25 अक्टूबर तक बढ़ा दी। उनके करीबी शिवा और शिल्पी की भी न्यायिक हिरासत बढ़ा दी गई।

नारायण ने लगाई जमानत अर्जी सूरत। दुष्कर्म मामले में पिता आसाराम के साथ आरोपी बनाए गए नारायण साई पिछले छह दिनों से लापता हैं। इस बीच गिरफ्तारी से बचने के लिए उनके वकीलों से जिला अदालत में अग्रिम जमानत याचिका की अर्जी कर दी। इस पर फैसला संभवत: सोमवार को आ सकता है। वहीं पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने बताया कि पकड़े जाने के डर से नारायण बार-बार अपने मोबाइल फोन का सिम कार्ड बदल रहे हैं ताकि उनकी लोकेशन न पता चल सके।

देहरादून आश्रम का नक्शा निरस्तदेहरादून। आसाराम के सहस्रधारा रोड स्थित आश्रम का नक्शा मसूरी-देहरादून विकास प्राधिकरण ने निरस्त कर दिया। दो से तीन दिनों के भीतर आश्रम की सीलिंग के आदेश भी जारी हो सकते हैं। आश्रम के अवैध निर्माण मामले में एक महीने से प्राधिकरण में सुनवाई हो रही थी।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस