नई दिल्ली, पीटीआइ। सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे (General Manoj Mukund Naravane) ने मंगलवार को चीन, पाकिस्तान और कश्मीर में 'छद्म युद्ध' से जूझ रहे सेना के जवानों को चौबीसों घंटे चौकस रहने को कहा है। इसके साथ ही उन्होंने भरोसा दिलाया कि उनकी जरूरतों को किसी भी कीमत में पूरा किया जाएगा।

सेना दिवस की पूर्व संध्या पर तेरह लाख कर्मियों वाले बल को दिए एक संदेश में उन्होंने कहा कि भारतीय सेना ने राष्ट्र के दिमाग में एक विशेष स्थान बनाया है और यह केवल एक लड़ाकू संगठन या राष्ट्रीय शक्ति का औजार नहीं है।

CDS की नियुक्ति एक फलदायक कदम

सेना प्रमुख ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) के तहत सैन्य मामलों का विभाग बनाने के सरकार के फैसले की जमकर तारीफ की और इसे एक फलदायक कदम भी बताया जिससे तीनों सेनाओं के बीच अधिक समन्वय होगा। सेना प्रमुख नरवणे ने कहा कि भारतीय सेना की प्राथमिक जिम्मेदारी शीर्ष स्तर की तैयारियां बरकरार रखना है।

सेना के जवानों को हर समय रहना होगा सतर्क

इसके साथ ही उन्होंने सभी कर्मियों को खासकर पाकिस्तान, चीन की सीमाओं और सियाचिन ग्लेशियर की रक्षा करने वाले जवानों से कहा कि वे हर समय सतर्क रहें। सेना प्रमुख ने जटिल चुनौती का मुकाबला करने वाले जवानों को भी सतर्क करने को कहा। उन्होंने कहा कि सेना ने उभरते खतरों से निपटने के लिए सैद्धांतिक अनुकूलन और क्षमता वृद्धि की दिशा में कई कदम उठाए हैं।

बता दें कि कुछ दिन पहले ही सेना प्रमुख नरवणे के केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के पहले दौरे ने दुर्गम हालात में देश की सरहदों की रक्षा कर रहे सेना के जवानों का हौंसला बढ़ाया था। सैन्य सूत्रों के अनुसार थलसेना अध्यक्ष ने दिल्ली लौटने से पहले सेना की उत्तरी कमान की चौदह, पंद्रह व सोलह कोर को कड़ी सर्तकता से दुश्मन के मंसूबों को नाकाम बनाने के लिए कहा था। 

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस